चीन सीमा पर आखिर मोदी सरकार ने फौज को कौन सी ताकत दी, सुन कर आप गर्व करेंगे।  

लद्दाख में चीन की चाल को नाकाम करने के लिए भारत सरकार हर कदम उठाने के लिए अपनी रणनीति तैयार कर रही है। गृह मंत्रालय में भारत-चीन बॉर्डर मैनेजमेंट को लेकर इसके लिए एक बड़ी बैठक की गई जिसमें तय किया गया कि भारत अपने सीमाओं के हर इलाके में तेजी के साथ सड़को का निर्माण कार्य जारी रखेगा और इसे पूरा करेगा। इसके साथ दुश्मन की हर हरकत का जवाब देने के लिए सेना को सरकार की तरफ से पूरी छूट दे दी  गई है।

बेरोक टोक जारी रहेगा सड़क निर्माण कार्य

चीन सीमा विवाद के बीच भारत सरकार ने साफ कर दिया है कि सीमाओं के आसपास भारत सरकार जितनी भी सड़क निर्माण कर रही है उसे जारी रखेगा। लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा तक भारतीय सैनिकों के पहुंच को सहज और सुगम बनाने के लिए जल्‍द से जल्‍द सड़क का काम पूरा करने की तैयारी सरकार की तरफ से कर ली गई है। जानकारो की माने तो बैठक में तय कर दिया गया है कि 32 सड़कों का काम जल्द पूरा किया जाएगा और इसके लिए केंद्र सरकार ने बनाई विस्तृत योजना भी बनाई है। सूत्रों के मुताबिक लद्दाख रीजन में तीन प्रमुख रास्तों का निर्माण बार्डर रोड आर्गेनाइजेशन कर रहा है। आईसीबीआर फेज़-2 यानि इंडो चाइना बार्डर रोड पर दूसरे चरण के काम में 32 सड़कों का निर्माण होना है। गृह मंत्रालय सूत्रों के मुताबिक इन सड़कों के निर्माण कार्य को सारी एजेंसियों के सहयोग से और ज्यादा गति दी जाएगी। गौरतलब है कि भारत-चीन बॉर्डर रोड पर कुल 73 सड़कें बननी हैं। इसमें 12 रोड पर सीपीडब्लूडी काम कर रहा है और 61 में बॉर्डर रोड ऑर्गनाइजेशन सड़कों के अलावा सीमावर्ती गांवों में भी बिजली, रोजगार के साधन, शिक्षा और स्वास्थ्य सुविधाएं ज्यादा से ज्यादा बढ़ाने के काम को प्राथमिकता दी जाएगी जिससे ये इलाके भी मुख्य विकास की धारा से जुड सके।

सीमा पर सेना को खुली छूट का ऐलान

15 जून को हुई झड़प के बाद देश की सेना को खुली छूट दे दी गई है कि वो सीमा में अपने हिसाब से फैसला ले सकती है। इतना ही नही सेना को हथियार लेकर चलने की भी इजाजत मोदी सरकार ने दी है। सरकार की माने तो चीन जिस तरह से हठधर्मिता कर रहा है उससे ये साफ होता है कि चालबाज चीन को सबक सिखाने के लिए भारतीय फौज को पूरी छूट देना चाहिए जिसके चलते ये फैसला लिया गया है तो दूसरी तरफ फौज को 500 करोड़ रूपये के सामान खरीदने की भी छूट दे दी गई है। हालांकि भारत सरकार ने साफ किया है कि वो सीमा पर अमन चाहते है लेकिन चीन इसे हमारी कमजोरी न समझे, अगर चीन ने फिर से कोई चालबाजी सीमापर की तो उसे गंभीर परिणाम भुगतने होगे। इस फैसले के बाद देश की सेना का मनोबल इस वक्त काफी ऊंचा हो चुका है.

कुल मिलाकर भारत ने साफ कर दिया है कि अगर तुम जंग की शुरूआत करोगे तो इसका अंत हम करेगे और ये बात चीन अच्छी तरह से समझ ले तो बेहतर होगा क्योकि दोबारा उसे भारत की सेना और सरकार संभलने का मौका नही देने वाली है।