योगी का भ्रष्टाचार विरोधी फरमान- सरकारी कर्मचारियों के गिफ्ट लेने पर पाबन्दी

CM YOGI

किसी भी देश की तरक्की और उसके विकास के मार्ग का सबसे बड़ा अडंगा होता है भ्रष्टाचार और भ्रष्ट लोग| PM मोदी और भाजपा का हमेशा से यही उद्देश्य रहा है कि किसी भी प्रकार से देश में हो रहे भ्रष्टाचार को रोका जाये और भ्रष्ट व्यक्तियों के खिलाफ सख्त से सख्त कदम उठाया जाये ताकि दुबारा कोई भ्रष्टाचार की राह पर न जाये| इस क्रम में भ्रष्टाचार पर रोक लगाने हेतु कई नियम बनाये गए जिस से बहुत हद तक भ्रष्टाचार पर लगाम लगी|

अब उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने राज्य में भ्रष्टाचार पर सख्त कदम उठाते हुए कई नियमों को लागु किया है| मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सरकारी कर्मचारियों के लिए नया फरमान जारी किया है जिसके तहत सरकारी कर्मचारियों को बिना अनुमति किसी से गिफ्ट लेने से मना किया गया है| इस सम्बन्ध में सचिवालय प्रशासन के मुख्य सचिव महेश गुप्ता की तरफ से सर्कुलर जारी कर दिया गया है|

खबरों के अनुसार इस सर्कुलर के अंतर्गत अब किसी भी व्यक्ति को सचिवालय या किसी भी सरकारी इमारत के अन्दर किसी भी प्रकार का गिफ्ट ले जाने पर पाबंदी है| इसके अतिरिक्त कोई भी सरकारी कर्मचारी अपने उंच्च अधिकारी के अनुमति के बिना किसी भी प्रकार का गिफ्ट किसी व्यक्ति से ग्रहण नहीं कर सकता| इस सर्कुलर के बारे में राज्य के सभी मंत्रियों और अधिकारियोंको जानकारी दे दी गई है|

गौरतलब है की गिफ्ट देकर हमेशा कुछ लोग इस कोशिश में रहते है कि उनका काम हो जाये, भले ही वो काम गलत क्यों न हो और यही भ्रष्टाचार की शुरुवात है| योगी के इस कदम से अनुमानतः भ्रष्टाचार पर रोक लगने की संभावना है|

पूछताछ पर अधिकारियों ने इस नियम पर अपनी प्रतिक्रिया दी, जिनमे कुछ अधिकारीयों ने अपनी नाराज़गी व्यक्त करते हुए कहा कि सरकार का ये कदम गलत है| उसने आगे कहा की, “IAS अधिकारीयों को उनके घरों तक गिफ्ट पहुंचाए जाते है जबकि हमें मिठाइयाँ या अन्य चीज़ें ही यहाँ पर मिलती है| सरकार यदि इस प्रथा पर रोक लगाना चाहती है तो उन्हें अधिकारियों के घरों पर भी नज़र रखनी चाहिए|”

अब देखना ये है कि योगी का ये कदम कर्मचारियों और अधिकारीयों को किस हद तक घूस लेने से रोक सकता है| आपको बता दें कि इस से पूर्व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सरकारी इमारतों में हथियार के साथ प्रवेश पर भी रोक लगाई थी| वैसे विधायक या ठेकेदार जो सुरक्षा गार्ड के साथ आते है उनके सुरक्षा गार्ड से उनके हथियार अब गेट पर ही जमा करवा दिया जायेगा|

रोक तो उन लोगो पर भी लगाया गया है जो सरकारी कार्यालयों में पान और गुटखा चबाते है और जहाँ-तहां थूक कर कार्यालय प्रांगन को गन्दा करते है| योगी ने इन लोगो पर रोक लगाते हुए कहा कि अगर कोई भी व्यक्ति ऐसा करते हुए पकड़ा गया तो उसे 500 रुपये का जुरमाना भरना होगा|

ये सारी बातें छोटी ही सही लेकिन एक सार्थक पहल है, आशा करते हैं ऐसी रोकथाम वाली बातें देश के हर सरकारी दफ्तरों में लागू हो जाये ताकि देश की गरीब जनता को बिना कोई घूस दिए अपना काम करवाने में सफलता मिले|