ड्रग मैन्युफेक्चरर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष ने कहा, दुनिया को चीन से ज्यादा भारत पर भरोसा

अमेरिकी सरकार के आग्रह पर भारत सरकार ने मार्च में दवाओं के निर्यात पर प्रतिबंध हटा दिया। इनमें हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन (HCQ) और पेरासिटामोल भी शामिल हैं, जो कोरोना उपचार के लिए सबसे अधिक उपयोग की जाने वाली दवाएं हैं। इन दवाओं पर निर्यात प्रतिबंध को हटाने पर काफी बहस हो रही है। फार्मा इंडस्ट्रीज के अनुसार, भारत में कोरोना  के उपचार के लिए 100 मिलियन से अधिक HCQ टैबलेट उपलब्ध हैं। इसके अलावा हम दुनिया को भी दवा देने को सक्षम हैं। अमेरिका, या दुनिया के अन्य देशों की बात करें तो दवा की बात आते ही वे चीन की तुलना में भारत पर अधिक भरोसा करते है। इंडियन ड्रग मैन्युफेक्चरर्स एसोसिएशन (IDMA) के अध्यक्ष महेश दोशी ने ऐसा कहा है |

अमेरिका ने भारत से दवा लेने का विकल्प क्यों चुना?

जहां तक ड्रग की गुणवत्ता और विश्वसनीयता का सवाल है, यूएसएफडीए मान्यता प्राप्त प्लांट अमेरिका के बाहर भारत में अधिक है। पेरासिटामोल और HCQ जैसी दवाओं के उत्पादन में चीन हमसे बेहतर है, लेकिन चीन के पास USFDA द्वारा मान्यता प्राप्त प्लांट काफी कम है । जब दवा में विश्वास की बात आती है, तो अमेरिका सहित दुनिया का कोई भी देश भारत पर अधिक भरोसा करता है। हमारे पास एक मानक है और हमारे द्वारा उत्पादित दवाओं की विश्वसनीयता अधिक है।

क्या भारत ने प्रतिबंध हटाने के बदले कोई मांग की थी ? क्या किसी तरह की सौदेबाजी हुई है?

इस मामले में सौदेबाजी का कोई सवाल ही नहीं है और ऐसा करने का उचित समय भी नहीं है। भारत को फार्मेसी के हब के रूप में जाना जाता है और हम वैश्विक परिवार में विश्वास करते हैं। सोशल मीडिया में ऐसी कई बातों पर चर्चा हो रही है की भारत ने निर्यात प्रतिबंध हटाने के बदले कुछ मांग की होगी। यह सब झूठ है। हमारी सरकार नीतिगत नियमों के संदर्भ में ऐसी बातें नहीं कहेगी क्योंकि यह देश की प्रतिष्ठा का सवाल है।

भारत सरकार दवाओं के निर्यात पर प्रतिबंध क्यों लगाया था ?

भारतीय फार्मा उद्योग कच्चे माल के मामले में चीन पर निर्भर है। वुहान ड्रग कच्चे माल के मुख्य केंद्रों में से एक है जहां कोरोना का चीन में संक्रमण सबसे अधिक हुआ है। चीन से माल की आपूर्ति फरवरी के दौरान स्थिर हो गई थी और इन परिस्थितियों में भारत सरकार यह सुनिश्चित करना चाहती थी कि देश में किसी भी प्रतिकूल परिस्थिति से निपटने के लिए हमारे पास पर्याप्त तैयारी हो । इस प्रकार, एहतियाती कारणों से, केंद्र ने दवाओं के निर्यात को तत्काल प्रभाव से प्रतिबंधित कर दिया गया था। सरकार फार्मा उद्योग के साथ लगातार संपर्क में थी। हमने सरकार को भी आश्वासन दिया है कि भारतीय दवा कंपनियों के पास पर्याप्त कच्चा माल है और देश आवश्यकतानुसार दवाओं का उत्पादन करने में सक्षम है।