दस कारण जो बनाते हैं मोदी की इतनी दमदार छवि

आज देश में 2019 के लोकसभा चुनाव की मतगणना की प्रक्रिया सुबह 8 बजे से ही चल रही है| अब तक रुझानों की बात करें तो नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाले NDA के लिए ये 19 मई को आये एग्जिट पोल के नतीजों से भी ज्यादा अच्छे साबित हो रहे हैं|

रुझानों के अनुसार बीजेपी अकेले बहुमत के साथ नज़र आ रही है| साथ ही उसके सहयोगी दलों को भी बढ़त मिलती दिख रही है| अगर जनता के पसंद की बात करें तो एग्जिट पोल में ही साफ-साफ तय हो गया था कि अगले PM भी नरेन्द्र मोदी ही होंगे| मतगणना की प्रक्रिया तो बस इस बात पर मुहर लगाने का काम कर रही है| ऐसे बहुत से कारण है जो नरेन्द्र मोदी को और राजनेताओं से अलग और विश्वासपात्र बनाते है | आइये देखते है उनकी कुछ ऐसी बातें जो मोदी जी के छवि को इतनी दमदार बनाती है:

  1. नरेन्द्र मोदी एक नेता के तौर पर अपने कौशल, भाषण, और प्रभावशाली शब्दों से देश की एक बड़ी जनसँख्या को एक साथ जोड़ते हैं| उनकी ये खासियत उन्हें जनता में लोकप्रिय नेता बनाती है| यहीं नहीं, जनता को नरेद्र मोदी के दमदार भाषण से प्रेरणा भी मिलती है|
  2. नरेन्द्र मोदी ने हमेशा “सबका साथ, सबका विकास” को अपना मूल मंत्र बना कर देश के लिए काम किया| जिसमे देश की जनता ने उनका पूरा साथ निभाया| वहीँ दूसरी ओर विपक्ष इस मंत्र के बिलकुल विपरीत नजर आया, तभी तो GST, नोटबंदी जैसे मुद्दों पर भी विपक्ष ने विरोध जताया |
  3. SURGICAL STRIKE और AIR STRIKE जैसे कदम उठा कर आतंक को मुहतोड़ जवाब देने का मोदी का काम जनता को प्रभावित करने वाला था|
  4. Congress और SP जैसे पार्टियों के “वंश की राजनीती” पर मोदी और बीजेपी की सरकार के लगातार हमले करने की वजह से ऐसी पार्टियाँ हर जगह खुद को बचाती हुई नज़र आई|
  5. मोदी को नीचा दिखाने के लिए विपक्ष ने बेरोज़गारी को एक अहम् मुद्दा बनाया, पर नरेन्द्र मोदी स्वरोजगार को प्राथमिकता देने की वजह से देश की भी प्राथमिकता बने रहे|
  6. चुनाव के आखिरी चरण से पहले मोदी की केदारनाथ की यात्रा और साधना को भी विपक्ष ने राजनीती के पैंतरों से जोड़ने की कोशिश की और यह आचार संहिता का उल्लंघन है ऐसा साबित करने की कोशिश की| लेकिन क्योंकि ये मुद्दा आस्था से जुड़ा हुआ था, इसलिए देश के संविधान ने इसको गलत मानने से इंकार कर दिया |
  7. विपक्ष के नेता का कमज़ोर होना भी एक अहम् मुद्दा है | ऐसा नहीं कि राहुल गाँधी जनता के बीच लोकप्रिय नहीं है | देश के कमजोर तबकों मसलन किसानों, मजदूरों और श्रमिक वर्गों में उनकी लोकप्रियता बढ़ी भी है लेकिन प्रधानमंत्री वाली छवि में जनता मोदी को ही प्राथमिकता दे रही है|
  8. कांग्रेस के शासन में हुए घोटालों का, भ्रष्टाचार का हिसाब लगाने, और अपराधियों को सामने लाने में मोदी सरकार की कामयाबी का असर भी जनता में देखने को मिला|
  9. पीएम मोदी द्वारा चलाए गए अभियानों और उनके अद्भुत प्रबंधकीय कौशल ने भी उन्हें बड़ी आबादी में लोकप्रिय बनाए रखा।
  10. RAFAL DEAL के मुद्दे पर विपक्ष की कोशिश ने काफी हद तक जनता को मोदी के खिलाफ कर दिया| पर पुलवामा हमले के बाद मोदी के राष्ट्रवाद और देश की सुरक्षा के लिए उठाये गए ठोस कदम से एक बार फिर नरेन्द्र मोदी जनता के बीच अपनी लोकप्रियता स्थापित करने में कामयाब रहे |

देश की जनता का नरेन्द्र मोदी के प्रति जो विश्वास 2014 में देखने मिला था, वो 2019 में और भी पक्का होता हुआ दिख रहा है और हो भी क्यों न, नरेन्द्र मोदी की छवि ही इतनी आकर्षक और निराली है|