आखिर क्यों पीएम 10 करोड़ खत लिख रहे है?

सोचो की अगर आप घर पर हो और डाकिया आकर ये कहे कि प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी का खत आपके लिये आया है तो आपको क्या महसूस होगा। यकीनन पूरे शरीर मे एक हर्ष कि छटा बहने लगेगी क्योंकि एक आम आदमी के पास आज तक किसी पीएम का खत नही आया है। लेकिन अब ऐसा होने वाला है क्योंकि देश की 10 करोड़ जनता को पीएम मोदी ने खत लिखा है।

 

चलिये हम बता दे कि ये 10 करोड़ लोग वो लोग है जिनका नाम आयुष्मान योजना के तहत आता है लेकिन उन्हे अभी पता ही नही कि उनको भी इस योजना का फायदा मिलेगा। इसबात की जानकारी ही पीएम अब खत के जरिये उन्हे देगें। बता दें कि आयुष्मान भारत को लॉन्च हुए करीब महीनाभर बीत चुका है। अबतक 112,000 लोगों ने इसका लाभ उठाया है, जिसपर कुल 146 करोड़ रुपये से ज्यादा का खर्च आया है।

अब आपके मन मे ये आ रहा होगा कि ऐसा वो किस लिये कर रहे है तो ये भी हम साफ कर देते है कि पीएम मोदी ऐसा क्यों कर रहे है। जैसा कि सभी जानते है कि इस योजना को लेकर पीएम कितना गंभीर है तभी तो वो इस योजना का जिक्र हर जगह करते हुए देखे जाते है. लेकिन जब पीएम को पता चला कि इस योजना का फायदा जिन लोगो को मिलना चाहिये वो अभी इस योजना तक नही पहुंच पा रहे है तो उन्होने खुद योजना को सही परिवारो तक पहुंचाने का बीढ़ा उटाया है। इसीलिये पीएम अब हर घर मे खत के जरिये ये बतायेगे कि प्रधानमंत्री आरोग्य योजना का लाभ आप ले सकते है।

सरकार कि माने तो दुनिया की सबसे बड़ी हेल्थकेयर स्कीम ‘आयुष्मान भारत’ या मोदीकेयर 25 सितंबर से शुरू हो चुकी है और अब सरकार इसको सफल बनाने में कोई कसर छोड़ने को तैयार नहीं है। इसकी सक्सेस में सबसे बड़ी रुकावट उन्हीं लोगों को माना जा रहा है, जिनके लिए इसे शुरू किया गया। इस बारे में नीति आयोग के सदस्य विनोद के पॉल ने जानकारी दी है।

विनोद के पॉल ने कहा कि मोदीकेयर के सफल होने में सबसे बड़ी परेशानी वही 10 करोड़ परिवार या 50 करोड़ लोग हैं, जिनके लिए यह है। असल में उन्हें पता ही नहीं है कि स्कीम क्या है, इसका कैसा लाभ लेना है और वह इसके लिए पहले से ही रजिस्टर्ड हैं। बता दें कि सामाजिक-आर्थिक जातिगत जनगणना के डेटा के आधार पर निचले स्तर पर आनेवाले 40 प्रतिशत लोग आयुष्मान भारत का लाभ लेने के लिए खुद रजिस्टर हो चुके हैं, उन्हें अलग से कोई प्रकिया पूरी नहीं करनी है।

कैसे चेक करे अपना नाम

योजना को संचालित करने वाली नेशनल हेल्थ एजेंसी ने एक वेबसाइट और हेल्पलाइन नंबर लॉन्च किया है, जिसके जरिए कोई भी यह जांच सकता है कि लाभार्थियों की फाइनल लिस्ट में उसका नाम शामिल है या नहीं। लिस्ट में अपना नाम जांचने के लिए आप mera.pmjay.gov.in वेबसाइट देख सकते हैं या हेल्पलाइन नंबर 14555 पर कॉल कर सकते हैं।

प्रधानमंत्री पहले ही कह चुके है कि जब किसी गरीब का इलाज सरकार के जरिये होता है तो उन्हे सबसे ज्यादा शुकून मिलता है। तभी पीएम की हर योजना का फायदा आज हर देश का गरीब उठा रहा है। और पीएम मोदी को दिल से धन्यवाद दे रहा है।