अमेरिका के 25 सांसद क्यों खड़े हो गए मोदी के पक्ष में? पढ़ें!

एक तरह से कहे तो चुनावी समर का आधा पखवारा निकल चुका है। लेकिन मोदी की रैलियों आने वाले भीड़ को देखर यही लगता है कि पीएम मोदी को देश में पंसद करने वाले की गिनती लगातार बढ़ रही है। तभी तो तेज धूप में भी हजारों आदमी मोदी को सुनने रैली स्थल तक चले आ रहे है। लेकिन लोगों का ये प्यार सिर्फ देश में ही नही है बल्कि विदेश में भी है।

donald-trump

अमेरिका के 25 सांसद पीएम मोदी के इतने बड़े मुरीद हो गये है कि उन्होने अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रप से साफ कहा है कि भारत को व्यापार में दी गई सामान्य तरजीही व्यवस्था यानी GSP खत्म न किया जाये। उन्होंने अमेरिकी व्यापार प्रतिनिधि राबर्ट लाइटहाइजर से अपील की है कि शुक्रवार को 60 दिन की अवधि समाप्त होने के बाद भी भारत के साथ GSP कार्यक्रम को खत्म नहीं किया जाना चाहिये।

चलिये सबसे पहले जानते है कि आखिर ये GSP क्या है चलो हम बताते है जीएसपी अमेरिका का सबसे बड़ा और पुराना व्यापार तरजीही कार्यक्रम है। यह कार्यक्रम चुनिंदा लाभार्थी देशों के हजारों उत्पादों को शुल्क से छूट देकर आर्थिक वृद्धि को बढ़ावा देने के लिए शुरू किया गया था। अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने 4 मार्च को घोषणा की थी कि अमेरिका जीएसपी के तहत लाभार्थी विकासशील देश के रूप में भारत का दर्जा समाप्त करना चाहता है। 60 दिन की नोटिस अवधि तीन मई को समाप्त हो रही है और इसे रोकने के लिये अब इन सांसदो ने अवाज बुलद की है।

25_US_lawmakers_urge

अमेरिका की आर्थिक स्थिति को लगेगा झटका

उन्होंने आग्रह किया कि भारत के लिए सामान्य तरजीही व्यवस्था समाप्त करने से वे अमेरिकी कंपनियां प्रभावित होंगी जो भारत में अपना निर्यात बढ़ाना चाहती हैं। सांसदों ने कहा कि जीएसपी के तहत मिलने वाले लाभों को खत्म करने से भारत या अमेरिका किसी को भी फायदा नहीं होगा।उन्होंने कहा कि वे कंपनियां जो जीएसपी के तहत भारत के लिए शुल्क-मुक्त व्यवस्था चाहती हैं, उन्हें नए करों के रूप में करोड़ों डॉलर देने होंगे। अतीत में जीएसपी लाभों में अस्थायी खामियों की वजह से अमेरिका में कंपनियों को कर्मचारियों की छंटनी, वेतन और लाभ में कटौती करनी पड़ी थी। सांसदों ने कहा, ‘भारत के लिए जीएसपी खत्म करने से लाभ नहीं बल्कि नुकसान होगा। वें कंपनियां प्रभावित होंगी जो भारत में निर्यात बढ़ाना चाहती हैं।

मतलब साफ है कि मोदी ने देश की आर्थिक स्थिति को ऐसा कर दी है कि आज अमेरिका भी सोच मे है कि वो जीएसपी हटाये या नही ये तो सोचने वाली बात है ऐसे मे तो यही कहना होगा कि मोदी ने देश को मजबूत किया है। वो भी हर सेक्टर में।