पूरी दुनिया मे लगा जनता कर्फ्यू – 20 से ज्यादा देशों ने किया लॉकडाउन

भारत मे 22 मार्च को जनता कर्फ्यू लगने वाला है, जबकि इस दुनिया मे कई देश पहले से ही कर्फ्यू वाली स्थिति मे रह रहे हैं | कोरोना वायरस के फैलाव के कारण 20 से अधिक देशों मे लॉकडाउन कर दिया गया है | चीन, डेनमार्क, अल-सल्वाडोर, फ्रांस, आयरलैंड, इटली, जर्मनी, ब्रिटेन, पोलैंड, स्पेन, बेल्जियम, अर्जेंटीना, वेटिकन सिटी, नार्वे, ईरान, दक्षिण कोरिया, हांगकांग, इंडोनेशिया समेत कई अन्य देशों ने लॉकडाउन लागू किया हुआ है। अलग-अलग मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक दुनिया में लॉकडाउन के चलते करीब 120 करोड़ लोग घरों में रहने को मजबूर हैं। इसके अलावा करीब 50 देशों ने किसी शहर या एक सीमित इलाके में लॉकडाउन लागू किया हुआ है। अमेरिका ने शुक्रवार को कैलिफोर्निया में लॉकडाउन लागू कर दिया। इसके बाद यहां 4 करोड़ लोग घरों में कैद कर दिए गए हैं।

इस साल जनवरी में सबसे पहले चीन ने हुबेई प्रांत के वुहान में लॉकडाउन लागू किया था। यहीं से कोरोनावायरस शुरू हुआ था। अब दुनिया में कोरोना से सबसे ज्यादा मौतें इटली में हो रही हैं। यहां प्रधानमंत्री ग्यूसपे कोंते ने 10 मार्च को पूरे देश में लॉकडाउन लगा दिया था। इसके बाद से यहां 6 करोड़ लोग घरों में कैद हैं। यह लॉकडाउन तीन अप्रैल तक रहेगा। इस दौरान ट्रैवेल करने, चर्च जाने पर, काम पर जाने पर रोक लगा दी गई। स्पेन और फ्रांस ने भी लोगों को घर में रहने का आदेश जारी किया हुआ है। फ्रांस में चीन से बाहर सबसे बड़ा लॉकडाउन है। फ्रांस में 6 करोड़ 70 लाख लोग घरों में कैद हैं। ब्रिटेन के लंदन में लॉकडाउन किया गया है। चीन में करीब 78 करोड़ लोगों को लॉकडाउन किया गया है। हालांकि अब यहां कुछ ढ़ील दी जाने लगी है।

कोरोनावायरस अब तक दुनिया के 150 से ज्यादा देशों में फैल चुका है। इसकी चपेट में  2.44 लाख लोग आ चुके हैं। 10,184 लोगों की जान गई है।

डब्ल्यूएचओ के मुताबिक लॉकडाउन कोरोना को फैलने से रोकने में कारगर

डब्ल्यूएचओ भी कह चुका है कि दुनिया के सभी देशों को सोशल डिस्टेंशिंग बढ़ाना चाहिए। इसके अलावा लोगों के बाहर निकलने पर प्रतिबंध लगाना होगा। लॉकडाउन से कोरोनावायरस को फैलने से रोकने में मदद मिलेगी। यह दुनिया के सबसे बेहत विकल्प है।