पीएम मोदी की स्पीच कौन तैयार करता है? मिल गया जवाब

पीएम मोदी तकरीबन हर दिन किसी न किसी मुद्दे पर भाषण देते हैं। कभी मौका होता है पॉलिटिकल रैली का तो कभी कोई लॉन्चिंग इवेंट, कभी छात्र-छात्राओं को संबोधन तो कभी इंटरनैशनल कॉन्फ्रेंस का लेकिन बंगाल चुनाव के ठीक पहले पीएम मोदी पर कुछ लोग तंज कस रहे है और बोल रहे है कि मोदी जी का भाषण लिखा लिखाया होता है। सवाल उठना लाजमी भी है और इसी को लेकर पीएम दफ्तर में एक आरटीआई भी डाली गई है जिसका जवाब भी आ गया है। आइये आपको बताते है कि आखिर जवाब क्या आया है।

 

पीएम खुद अपने भाषण को देते है अंतिम रूप

आरटीआई के तहत जो खुलासा हुआ है वो यकीनन आपको चौका देगा क्योकि कुछ ऐसा ही जवाब हमे मिला है। जवाब में सरकार ने बताया है कि पीएम विभिन्न माध्यमों से इनपुट्स इकट्ठा करने के साथ पीएम खुद ही अपने भाषण को अंतिम रूप देते है। पीएमओ ने आरटीआई के जवाब में बताया है, ‘अलग-अलग कार्यक्रमों के अनुसार प्रधानमंत्री को उसके इनपुट उपलब्ध करा दिए जाते हैं। इसके बाद पीएम खुद भाषण को अंतिम रूप देते हैं और ऐसा वो हर भाषण में करते है फिर वो जनता के बीच रैली हो या फिर विदेश में कोई कार्यक्रम क्यो न हो। इससे बता चलता है कि पीएम मोदी को देश हो या विदेश हर मुद्दे पर कितनी अच्छी जानकारी है और वो अपने अनुभव को ही भाषण की शक्ल देकर हम लोगो के सामने रखते है।

सादगी वाले पीएम मोदी

इसे पीएम मोदी की सादगी ही कहेंगे कि वो इतने ज्यादा बिजी होने के बाद भी लोगो से सीधे जुड़ने के लिये खुद भाषण तैयार करते है। तभी तो वो आज देश के हर व्यक्ति से सीधे जुड़े होते है क्योकि उनके भाषण में हर वो बात होती है जो उस इलाके से जुड़ी होती है। इसके साथ साथ पीएम के अनुभव का भी पता चलता है और समझ में आता है कि कई दशक का अनुभव ही आज पीएम मोदी को एक बेहतर वक्ता बनाता है। हां ये जरूर है कि आज कुछ लो उन पर तंज कसते है कि पीएम देखकर बोलते है लेकिन देखते कि वो खुद अपना भाषण तैयार करके बोलते है तबी तो मोदी जी के भाषण पढ़ने की धारा दूसरे नेताओं से बहुत बेहतर होती है जिसे सुनकर लोग मंत्रमुग्ध हो जाते है। क्योकि उसमें उनके बारे में या राष्ट्रहित की ही बाते होती है न ही किसी दूसरे के लिये गाली ।

फिलहाल अब जवाब मिल गया है और ये खबर हम भी इसी लिये बता रहे है कि अब किसी को गिला-शिकवा न रहे की पीएम का भाषण कौन लिखता है।