‘जहाँ चाह-वहाँ राह’, इस कहावत को जी कर दिखाया बक्सर के ग्रामीणों ने

‘जहाँ चाह वहाँ राह’ इस बात को बिहार के बक्सर जिले के ग्रामीणों ने एक बार फिर सही साबित किया है। उन्होने ये दिखा दिया की अगर जनता ठान ले तो नामुमकिन कुछ भी नही है। बात बिहार के बक्सर इलाके की काव नदी की है जो बरसो से मृत पड़ी थी लेकिन आज ये लबालब पानी से भरी हुई है। सिर्फ जनता की ताकत और सरकार की मदद के कारण।

ग्रामीण लोगो ने जीवित की काव नदी

कुछ साल पहले बिहार के बक्सर में बहने वाली काव नदी दुनिया के मानचित्र से लुप्त हो गई थी लेकिन इस साल ये नदी अपनी पुरानी रौनक में दिख रही है। इलाके के लोगो की कठोर परिश्रम की देन है कि नदी में खूब पानी है तो इस इलाके में पानी का स्तर भी पहले से काफी अधिक ऊपर पहुंच चुका है जिससे यहां घर घर पानी आराम से मिलने लगा है। खेती करने में भी लोगों को आसानी हुई है। जनता ने जब नदी को नया रूप देने की ठानी तो सरकार भी उनके साथ कदम से कदम मिलाकर चली। मनरेगा ने इस काम को पूरा करने में बहुत मदद की तो दूसरी तरफ कोरोना काल में शहर से आये लोगों को गांव में रोजगार भी मिल गया। नदी में पड़ी गंदगी हो या झाड़ झड़िया, सबको साफ किया गया जिसके बाद इस नदी में पानी की अविरल धारा देखने को मिल रही है। आप को ये भी बता दे कि ये नदी कैमूर पहाड़ी से निकलकर सासाराम, भोजपुर और कोकिला ताल के रास्ते होते हुए गंगा नगी में मिल जाती है। आथर ग्राम की पंचायत प्रमुख की माने तो गंदगी तो गांव के लोगो ने हटा दी थी लेकिन नदी की जमीन में जो कब्जा हुआ था उसे हटाने में सरकार का बहुत सहयोग मिला जिसके चलते ये नदी आज इस हालात में दिख रही है।

देशवासी खुद बन रहे अपने भाग्यविधाता

जिस तरह से बक्सर के ग्रामीण लोगों ने नदी को नया रूप दिया ऐसे कई और किस्से भी है जो अपने अपने इलाको में खुद विकास कि नींव रख रहे है। मसलन यूपी में गंगा नदी को साफ करने में सरकार के साथ जनता की भागीदारी बढ़ रही है। तो गढ़वाल इलाके में लोग सरकार के साथ मिलकर नई नई सड़के तैयार करके अपने इलाको को मुख्य शहर से जोड़ रहे है। ऐसा क्यो हो पा रहा है उसके पीछे का कारण हम आपको बताते है। आज मोदी सरकार हर उस आदमी के साथ खड़ी दिख रही जो कुछ नया करना चाहता है। अपने साथ साथ अपने शहर गांव और जिलो की किस्मत बदलना चाहता है। खुद पीएम मोदी कई बार इस बारे में बोल चुके है कि जनतंत्र में जनता को आगे आना होगा तभी ठीक तरह से विकास का खाका खीचा जा सकता है। शायद यही वजह है कि सरकार सिर्फ लोगों की मदद करती है और लोग खुद अपने हाथो से अपना भाग्य बनाने में लगे है। लेकिन उनके इस कदम से देश आत्मनिर्भर हो रहा है। नया भारत बन रहा है।

ऐसे में अब मानना होगा कि देश तेजी के साथ आगे चल बढ़ा है और इसे रफ्तार अगर किसी ने दी है तो वो इंजन है हमारे नमो यानी जन जन के नायक पीएम नरेंद्र मोदी..

Leave a Reply