जब पीएम मोदी ने सुनाया उत्तराखंड की एक मां का संदेश

चुनाव प्रचार के दौरान आज पीएम मोदी ने उत्तराखंड की एक महिला के संदेश को याद करके भावुक हुए उन्होने कहां कि देश की लाखों महिला आज उन्हे अपना बेटा मान रही है। इससे बड़ी और क्या सेवा होगी। इसके साथ साथ उत्तराखंड में सरकार बनने पर समान नागरिक संहिता लागू करने का भी ऐलान किया

मोदी ही सच्चा बेटा है

उत्तराखंड के रुद्रपुर में पीएम मोदी ने जनता के हुजूम के बीच उत्तराखंड की एक माँ का जिक्र किया और बोला कि कुछ दिन पहले उन्होने एक विडियो देखा था जिसमें एक मां बोल रही थी कि जिस बेटों को 9 महीने पेट में रखा वो अपने अपने में को गये। उनका ध्यान तो मोदी जी ने रखा इसलिये मोदी जी उनके सच्चे बेटे है। पीएम मोदी ने बोला ऐसा विश्वास ही उन्हे और काम देना का बल देता है तो उनका ये प्यार उनके लिये सबसे बड़ा पुरस्कार भी है। इसके साथ उन्होने कहा आप सबको देखकर लग रहा है कि आप मुझे सुनने नहीं बल्कि पुष्कर सिंह धामी के शपथ ग्रहण का निमंत्रण देने के लिए आए हैं। पीएम मोदी ने कहा कि अफवाह फैलाने वाले नहीं चाहते थे कि वैक्सीन का कवच पाने के बाद रोजगार और उद्योग-धंधे फिर से चल पड़ें। ये चाहते थे कि सबकुछ पटरी पर आ जाएगा तो ये मोदी को गाली कैसे देंगे? भारत को बदनाम कैसे करेंगे? लेकिन ये लोग उत्तराखंड का सामर्थ्य भूल जाते हैं।

सत्ता में आने पर समान नागरिक संहिता लागू करने का ऐलान

उत्तराखंड के सीएम ने ऐलान किया कि अगर वो दोबारा सरकार में आये तो प्रदेश में सबसे पहले समान नागरिक संहिता लागू करेंगे। राज्य में समान नागरिक संहिता का मसौदा तैयार करने वाली समिति में न्यायविदों, सेवानिवृत्त और समाज के प्रबुद्ध वर्ग के लोगों के साथ हितधारकों को भी शामिल किया जाएगा । उन्होंने कहा कि इस समान नागरिक संहिता के दायरे में विवाह, तलाक, जमीन जायदाद और उत्तराधिकार जैसे विषय शामिल होंगे । ‘यह समान नागरिक संहिता संविधाननिर्माताओं के सपनों को पूरा करने की दिशा में एक अहम कदम होगा और संविधान की भावना को मूर्तरूप देगा। यह भारतीय संविधान के अनुच्छेद 44 की दिशा में भी एक प्रभावी कदम होगा जो देश के सभी नागरिकों के लिए समान नागरिक संहिता की संकल्पना प्रस्तुत करता है।

14 फरवरी को प्रदेश में मतदान के ठीक पहले पीएम मोदी ने जिस तरह से जनता के दिल में जगह बनाई है ये रुद्रपुर की सड़क पर भी देखने को मिला है। पीएम मोदी के स्वागत में चारो तरफ लोगों का हुजूम बहुत कुछ बताता है जिसका नतीजा 10 मार्च को सामने आयेगा।