जब पीएम मोदी ने दिया स्ट्रीट वेंडर्स को कारोबार बढ़ाने का आइडिया

वैसे तो पीएम मोदी औऱ देश की जनता के बीच सीधी बात लगातार जारी रहती है। पीएम मोदी जी कितने भी क्यो न व्यस्त हो लेकिन जनता से रूबरू होने का मौका निकाल ही लेते है। देश को सालों बाद ऐसा प्रधान मिला है जिसका संवाद जनता से सीधा होता है। इसी क्रम में पीएम मोदी ने मध्य प्रदेश के रेहड़ी पटरी व्‍यवसायियों से संवाद स्थापित किया और ये जानने की कोशिश की कि कोरोना के कहर में ‘पीएम स्‍वनिधि योजना’ के जरिए अपने पैरों पर खड़ा होने वाले इन गरीबों के साथ किसी तरह का भेदभाव तो नही किया गया। इससे साथ साथ आज उन्हे वादा किया कि स्‍वनिधि योजना से जुड़ने वाले जिन लाभार्थियों को उज्‍ज्‍वला, बिजली कनेक्‍शन, आयुष्‍मान भारत और बीमा योजना का लाभ नहीं मिलता होगा उन्‍हें इन योजनाओं से भी जोड़ा जाएगा। जिसके पास पक्‍की छत नहीं होगी उसे छत भी मुहैया कराई जाएगी।

चाय वाले ने दिया झाड़ू वाले को बिजनेस बढ़ाने का नुस्खा

नरेंद्र मोदी आज पीएम पद पर हैं लेकिन जीवन का अनुभव उन्हे दूसरे नेताओं से अलग बनाता है। पीएम मोदी जी की सादगी और अपने जीवन में पाई सीख से वो हमेशा हर मर्ज की दवा बता देते हैं। ऐसा ही कुछ इंदौर के झाडू विक्रेता छगनलाल से बात करते हुए पीएम मोदी ने किया। पीएम मोदी ने तुरंत आय बढ़ाने के लिये एक आइडिया छगनलाल को दिया जो उन्हे खूब भाया। पीएम मोदी जी ने सुझाव दिया कि पुराने झाडू के पाइप उन्हीं लोगों से काम पैसे में खरीद लिया करो जिसे नए झाडू बेचते हो उससे निर्माण लागत कम आएगी। पीएम का ये संदेश साफ बताता है कि वो जमीन से किस तरह से जुड़े हुए है।

केंद्रीय योजनाओं की जमीनी हकीकत को भी टटोला 

पीएम मोदी जनता से सीधे संवाद तो करते ही है, तो बातो बातो में ये भी जानने की कोशिश करते है कि सरकार ने जो सरकारी योजनाओं को लागू किया है। उसकी जमीनी हकीकत क्या है। लोगो को इसके बारे में ठीक ढंग से पता है या नही, तभी तो प्रधानमंत्री लाभार्थियों से बातचीत करते हुए केंद्र द्वारा चलाई जा रही योजनाओं की भी तस्‍दीक करने में लगे थे। ग्‍वालियर की अर्चना ने जब उनसे बताया कि पति राजेंद्र शर्मा के बीमार होने पर वह ठेला लगाती हैं तो उन्‍होंने अर्चना के जज्‍बे को सैल्‍यूट किया। पर यह पूछना नहीं भूले कि आयुष्‍मान भारत योजना का उन्‍हें कितना लाभ मिला। अर्चना ने कहा कि मेरे पति का इलाज उसी योजना में चल रहा है। इस बीच पीएम मोदी से बातचीत करने के लिए उनके पति भी आ गए। पीएम ने उन्हें हौसला बढ़ाया, बोले कि आप भाग्‍यशाली हैं कि अर्चना जैसी पत्‍नी और सुंदर बच्‍चे मिले। कहा अर्चना जैसी बहन-बेटियां पूरे समाज को प्रेरित करती हैं। इसके पहले मोदी से छगनलाल ने भी उज्‍ज्‍वला योजना का लाभ बताया। इसी तरह दूसरे लाभार्थियों से बात करते वक्त भी पीएम मोदी ने दूसरी योजनाओ के बारे में जानकारी इकट्ठा की।

पीएम स्वनिधि योजना

प्रधानमंत्री स्ट्रीट वेंडर्स स्वनिधि योजना के तहत कोरोना काल में सड़क पर छोटे छोटे काम-धंधे करने वालो को बिना सुरक्षा लिए, बैंकों से 10 हजार रुपये तक का लोन बिना किसी कागजी कार्यवाही के तहत दिया गया है। योजना में प्राविधान है कि डिजिटल ट्रांजेक्शन करने पर प्रतिवर्ष 1200 रुपए की अतिरिक्त राशि और समय पर ऋण चुकाने पर अगले वर्ष 20 हजार रुपए की कार्यशील पूंजी उपलब्ध करवाई जाएगी। इस योजना से मध्य प्रदेश ही नही बल्कि देश के रेहड़ी पटरी पर सामान बेचने वालो को बहुत फायदा पहुंचा है। क्योकि बैंक से छोटा लोन लेकर आज ये पूरी तरह से आत्मनिर्भर बन गये है तो कुछ तो दूसरो को भी रोजगार प्रदान कर रहे है।

देश का प्रधान ऐसा होना चाहिए, जो आज के साथ साथ आने वाले कल को भी मजबूत करे। कुछ यही काम पीएम मोदी कर रहे है। तभी तो वो मुफ्तखोरी की आदत के खिलाफ सबल बनाने का काम करने में लगे है जिसकी छवि आज देश में दिख रही है। छोटे से छोटा व्यक्ति भी आज खुद का कारोबार कर रहा है औऱ देश की प्रगति को बढ़ा रहा है।