व्हाट्स ऐप ने बदला प्राइवेसी पॉलिसी नियम से यूजर्स में फैला भ्रम  

मैसेजिंग ऐप व्हाट्स ऐप ने अपनी सर्विस की शर्तों और प्राइवेसी पॉलिसी को अपडेट किया है और यूजर्स को नई पॉलिसी का नोटिफिकेशन भेजना शुरू कर दिया है, जिसको लेकर कई लोगों को संदेह है। यूजर्स को संदेह है कि व्हाट्स ऐप इस्तेमाल करने वालों का सारा डेटा लीक हो सकता है और प्राइवेसी खत्म हो सकती है। चलिये इस बाबत आपका भ्रम हम दूर करते है।

व्हाट्स ऐप ने क्यों बदली पॉलिसी

आखिर व्हाट्स ऐप को अपनी पॉलिसी बदलने की क्यो जरूरत पड़ी? खुद व्हाट्स ऐप की माने तो अक्टूबर 2020 में सूचित किया था कि व्हाट्स ऐप के बिजनेस विजन के हिस्से के रूप में छोटे व्यवसायों को बेहतर ढंग से सक्षम करने के लिए हम अपनी सेवा की शर्तों और गोपनीयता नीति को अपडेट करेंगे क्योंकि हम छोटे व्यवसाय से की मदद के लिए नए सुरक्षा नियम बनाए हैं। इसी क्रम में ये कदम उठाई गई है।

नई शर्तों में दी गई है सुरक्षा के बारे में पूरी जानकारी

व्हाट्स ऐप की माने तो  अपडेटेड शर्तों और गोपनीयता नीति में इस बारे में अधिक जानकारी दी गई है यूजर्स के डेटा और गोपनीयता के लिए हमारी प्रतिबद्धता को कैसे संसाधित करते हैं। नई पॉलिसी में यूजर्स को उनके डेटा की सुरक्षा के बारे में पूरी जानकारी दी गई है। कई बिजनेस अपने ग्राहकों के साथ संवाद करने के लिए व्हाट्स ऐप पर भरोसा करते हैं। हम उन व्यवसायों के साथ काम करते हैं, जो व्हाट्स ऐप पर आपके साथ संचार को बेहतर बनाने के लिए फेसबुक या तीसरे पक्ष का उपयोग करते हैं। फेसबुक कंपनी के हिस्से के रूप में व्हाट्स ऐप, फेसबुक के ऐप और उत्पादों के अनुभवों और एकीकरण की पेशकश करता है।

फेसबुक को क्यों दिया जा रहा है डेटा?

फेसबुक को डेटा क्यो दिया जा रहा है इस बाबत भी व्हाट्स ऐप ने साफ किया है कि गोपनीयता नीति और शर्तों के लागू होने से पहले यूजर्स के पास एक महीने का समय है। इसके अलावा, व्यवसाय सेवा प्रदाता के रूप में फेसबुक का विकल्प प्रदान करने के संबंध में, यह अब उपयोगकर्ताओं, व्यवसायों को अधिक विकल्प प्रदान करता है। फेसबुक को व्हाट्स ऐप का डेटा सुरक्षित रखने के लिए दिया जा रहा है। लेकिन इसके साथ साथ व्हाट्स ऐप की नई गोपनीयता नीति और शर्तों के अनुसार, कंपनी आपके डिवाइस की आईडी, यूजर आईडी, फोन नंबर, ईमेल आईडी, सभी कॉन्टैक्ट, मोबाइल से होने वाले लेन-देन और फोन की लोकेशन जैसी अहम जानकारियां लेगी। नई शर्तों में कहा गया है कि आपके मोबाइल से ली जाने वाली सारी जानकारियां फेसबुक और इंस्टाग्राम के साथ शेयर की जाएगी।

फिलहाल आने वाले दौर में जिसके पास सबसे ज्यादा लोगो का डेटा है वही पॉवरपुल होगा ये कहा जाये तो गलत न होगा। ऐसे में व्हाट्स ऐप का ये कदम क्या रंग दिखायेगा ये तो आने वाले वक्त में ही पता चलेगा।