आखिर ट्रंप के इस दौरे का मकसद क्या है?

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का भारत दौरा शुरू होने में अब महज कुछ दिन रह गए हैं। भारत में ट्रंप के दौरे को लेकर जोरदार तैयारियां चल रही हैं। ट्रंप भारत आने को लेकर काफी उत्सुक भी हैं और इसको लेकर वह ट्वीट भी कर चुके हैं। लेकिन ट्रंप के इस दौरे के पीछे क्या मकसद है चलिये इसपर हम कुछ चर्चा करते है।

अमेरिका में इसी साल राष्ट्रपति चुनाव

दरअसल अमेरिका के चुनाव में भारतवंशियों का वोट काफी मायने रखता है। ट्रंप चाहेंगे कि वह भारत की यात्रा से भारतवंशियों को एक सकारात्मक संदेश दें जिससे उनके देश में रहने वाले भारतीय उनके साथ खड़े दिखे। गौरतलब है कि अमेरिका में करीब 30 से 35 लाख तक भारतीयों की आबादी है, उन्हे साधने की एक कोशिश ट्रंप भारत आ कर करना चाहते है। वैसे अमेरिका में इसी साल नवबंर में चुनाव होने है। मतलब चुनाव के दौर के बीच ट्रंप एक बड़ी चाल चलने की कोशिश में जुटे है।

भारत के जरिये चीन को साधने की कोशिश

काफी समय से चीन और अमेरिका के बीच एक कोल्ड वॉर चल रहा है। एशिया में ट्रंप को अपनी स्थिति मजबूत बनाए रखने के लिए एक मजबूत साथी देश की जरूरत है। भारत का एशिया में काफी दबदबा है। भारत से दोस्ती बढ़ाकर अमेरिका चीन पर लगाम कस सकता है। इसी लिये कई तरह के भतभेद होने के बाद भी ट्रंप लगातार मोदी को लुभाने में लगे है हालाकि मोदी जी पहले ही साफ कर चुके है कि देशहित के चलते वो किसी के दबाव में नहीं आने वाले है और खुद ट्रंप भी इस बात को कह चुके है।

बड़े बाजार पर भी ट्रंप की नजर

भारत पूरी दुनिया के लिए एक बड़ा बाजार भी है। यहां कंपनियों को एक बड़ा कंज्यूमर बेस मिल सकते हैं। ऐसे में ट्रंप भी चाहेंगे कि अमेरिकी कंपनियों को भारत में व्यापार में कुछ रियायत मिले। ऐसे में भले ही भारत की ओर से अमेरिकी प्रॉडक्ट्स पर भारी टैरिफ लगाया जा रहा हो लेकिन लॉन्ग टर्म में उसे फायदा का मौका भी मिल सकता है। इसलिए भी ट्रंप भारत से अच्छे संबंध बनाए रखना चाहते हैं।

मतलब साफ है कि इन कारणो के जरिये ट्रंप भारत का दौरा करने को बेताब है लेकिन मजे की बात ये है कि ट्रंप दुनिया के नेताओं पर तो अपनी दबाव की सियासत कर लेते है लेकिन मोदी जी के आगे उनकी इस सियासत के पतीले लग जाते है। ऐसे में जब ये दोनो नेता एक दूसरे के आमने सामने होगे तो जरूर कुछ न कुछ नया इतिहास बनेगा लेकिन हम इतना जानते है कि कुछ भी हो इसमें भारत का हित ही होगा क्योकि पीएम मोदी भारत के हित के अलावा कुछ ध्यान ही नही रखते है।

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •