आस्ट्रेलिया ने ऐसा क्या कहा कि चीन को होने लगी खलबली

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

संकट के वक्त को मोदी जी ने अवसर में ऐसा बदला कि देश में ही नहीं विदेश में भी मोदी और भारत की जय जयकार हो रही है। जिसके चलते जहां एक तरफ भारत को दुनिया के सबसे शक्तिशाली संगठन G7 में शामिल होने का बुलावा मिला तो अब भारत के पक्ष में आस्ट्रेलिया भी खुलकर आ गया है उसने भारत को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत को स्थायी सदस्यता दिए जाने की वकालत की है।

भारत को आस्ट्रेलिया का साथ

जो लोग मोदी सरकार की विदेश नीति पर सवाल उठाते थे या उठा रहे हैं वो अब ये समझ जाएं कि दुनिया में भारत की छवि आज के दौर में आजादी के बाद सबसे ज्यादा मजबूत होकर उभरी है। मोदी सरकार का कमाल है कि एक तरफ भारत को WHO की कार्यकारी बोर्ड के अध्यक्ष की जिन्मेदारी सौंपी गई है तो खुद अमेरिका ने भारत के बढ़ते दबदबे के चलते जी7 संगठन में शामिल होने का बुलावा भेजा। तो अब आस्ट्रेलिया ने दुनिया के सामने भारत को सुरक्षा परिषद में स्थायी सदस्य बनाने की वकालत की है। इससे समझ में आता है कि भारत का विश्व में कैसे दबदबा बढ़ता जा रहा है। ये बयान उस वक्त आया है जब चीन लद्दाख सीमा पर तनाव का वातावरण बना रहा है। जिससे चीन अब और ज्यादा तिलमिला गया होगा। क्योंकि वो अच्छी तरह से जानता है कि अगर भारत सुरक्षा परिषद का स्थाई सदस्य बन गया तो एशिया में उसकी दादागिरी बिलकुल खत्म हो जायेगी। इस लिए वो रोड़े जरूर अटकायेगा लेकिन जिस तरह से मोदी जी विदेश नीति में सफल हो रहे है वैसे में यही लगता है कि भारत जल्द ऐसा कर पायेगा।

चीन में मची खलबली

दुनियाभर में कोरोना वायरस  का संक्रमण फैलाकर , ताइवान  से लेकर हांगकांग  और लद्दाख सीमा पर तनाव का वातावरण बनाने वाले चीन को एक और जोरदार झटका लगा है। क्योंकि  ऑस्ट्रेलिया  भारत के पक्ष में खुलकर आ गया है। ऑस्ट्रेलिया के राजदूत बैरी ओ फ्रेल ने सोमवार को चीन पर परोक्ष रूप से हमला बोलते हुए कहा कि कुछ देश अपनी सीमा से बाहर के क्षेत्र में जबर्दस्ती दखल देते हुए अनावश्यक तनाव को बढ़ावा दे रहे हैं, जो कि स्वीकार्य नहीं है। जिसके बाद साफ हो गया कि चीन की हिंद महासागर में दादागिरी को कम करने के लिए भारत आस्ट्रेलिया और जापान एक हो रहे हैं। जो चीन के लिये खलबली का विषय है क्योंकि चीन अच्छी तरह से जानता है कि ये तीनो देश अगर एक साथ होकर चीन पर दबाव बनाएंगे तो चीन की इकोनॉमी, रक्षा सहित सामरिक सेक्टर में परेशानी खड़ी होगी। गौरतलब बात ये है कि आस्ट्रेलिया दुनिया में फैले कोरोना वायरस का जिम्मेदार भी चीन को माना है चीन पर सख्त कार्यवाही करने की मांग भी की है। ऐसे में चीन अब घिरता जा रहा है और ये सब हो रहा है भारत के पीएम मोदी की सफल विदेश नीति के जरिये।

 

बहरहाल वो दिन अब दूर नही लग रहे हैं जब संयुक्त राष्ट्र के सुरक्षा परिषद में भारत का स्थान भी होगा। क्योंकि जिस तरह से भारत इन दिनों समूचे विश्व में अपना रुतबा कायम कर रहा है। उसको देखकर विश्व के देश समझ गये हैं कि भारत ही ऐसा देश है जो मानवता की रक्षा के लिये समूची धरती को एक धागे में पिरो सकता है ऐसे में भारत आने वाले दिनों में नये अवतार में दिखे तो अचरज करने की जरूरत नही।


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •