जनभागीदारी के जरिये जल संकट को करना होगा दूर: मोदी

विश्व जल दिवस के मौके पर पीएम मोदी ने देश में जल संकट कम करने के लिये जल शक्ति अभियान के तहत ‘कैच द रेन’ की शुरूआत की। इस बाबत पीएम मोदी ने साफ किया कि हमें पानी का दुरूपयोग रोकना होगा और इसके साथ ही देश में प्रभावी जल प्रबंधन भी जरूरी है।

प्रभावी वाटर मैनेजमेंट की जरूरत

पीएम मोदी की माने तो जीवन के हर पहलू के लिए पानी जरूरी है। पानी बचाने के लिए जन-जन की भागीदारी की जरूरत है और इसके लिए प्रभावी वाटर मैनेजमेंट जरूरी है। आज पानी पैसे से भी ज्‍यादा कीमती है। इसलिए पानी का दोहन न रोकने से मुश्किलें आएंगी। प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत वर्षा जल का जितना बेहतर प्रबंधन करेगा उतना ही ग्राउंड वाटर पर देश की निर्भरता कम होगी, इसलिए कैच द रेन जैसे अभियान चलाए जाने  और सफल होने बहुत जरूरी हैं। उन्‍होंने कहा, आजादी के बाद पहली बार पानी की टेस्टिंग को लेकर किसी सरकार द्वारा इतनी गंभीरता से काम किया जा रहा है और मुझे इस बात की भी खुशी है कि पानी की टेस्टिंग के इस अभियान में हमारे गांव में रहने वाली बहनों-बेटियों को जोड़ा जा रहा है। गौरतबल है कि सिर्फ डेढ़ साल पहले हमारे देश में 19 करोड़ ग्रामीण परिवारों में से सिर्फ साढ़े 3 करोड़ परिवारों के घर नल से पानी आता था। लेकिन अब जल जीवन मिशन शुरू होने के बाद इतने कम समय में ही लगभग 4 करोड़ नए परिवारों को नल का कनेक्शन मिल चुका है।जो ये बताता है कि जल सकंट से निपटने के लिए किस तरह से तैयारी की जा रही है।

फौज के सिपाही की तरह करनी होगी तैयारी

पीएम मोदी ने देश की जनता से अपील करते हुए बोला कि जिस तरह से फौज का सिपाही अभ्यास के दौरान पसीना बहाता है ठीक उसी की तरह आने वाले कुछ महीनो में हमे वर्षा का पानी बचाने के लिये कोशिश करनी होगी जिससे आने वाले दिनो में पानी की कमी न रहे लेकिन इसके साथ साथ पानी की फिजूलखर्ची पर भी विशेष ध्यान देना होगा। आज देश में हर तरफ जल मिसन के तहत नल से साफ पानी पहुंचाने की मुहीम चालू की गई है लेकिन ये सफल तबी होगी जब सब देसवासी मिलकर इसे सफल बनायेगे । जैसे स्वच्छ भारत अभियान को सब ने मिलकर सफल बनाया ठीक वैसे ही पानी संकट को खत्म करने के लिये सबको आगे आकर काम करना होगा।

वैसे देश के कई इलाको में जहां पानी पहुंचना सिर्फ लोग सपनो में सोचते थे आज पूरा हुआ है। यूपी का बुंदेलखंड का हिस्सा हो या फिर मध्यप्रदेश का कछ हिस्सो में लोगो के द्वारा ही छोटे छोटे पोखर बनाकर जल संजय करके पानी संकट को दूर किया गया है जो ये बताता है कि देश अगर मन बना ले कि विपदा कितनी भी बड़ी क्यो न हो उसे दूर करके ही रहेगे तो वो पूरी होकर ही रहती है।