सैन्य धाम, उत्तराखंड में डिफेंस एक्विपमेंट इंडस्ट्री लगाने की योजना

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत राज्य में डिफेंस एक्विपमेंट इंडस्ट्री लगाने की योजना बना रहे हैं| इस योजना के फलीभूत होने से न सिर्फ यहाँ के युवाओं को रोजगार मिलेगा बल्कि अंतरराष्ट्रीय सीमा भी सुरक्षित रहेगी|

राज्य सरकार बना रही मास्टरप्लान

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत के नेतृत्व में उत्तराखंड सरकार राज में सेना सैन्य उपकरण और हथियारों के निर्माण के लिए इंडस्ट्री लगाने की योजना का मास्टरप्लान बना रही है| बता दें कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश की सेना में उत्तराखंड के बलिदान और योगदान के लिए उत्तराखंड को पांचवां धाम सैन्य धाम बताया था|

उत्तराखंड हर साल सेना को करीब 9,000 नए जवान देने वाले राज्य है| ऐसे में अगर राज्य में डिफेंस एक्विपमेंट इंडस्ट्री लगायी जाती है तो उत्तराखंड के युवा सिर्फ रोजगार समझ कर काम नहीं करेंगे, बल्कि देश सेवा और देशभक्ति की भावना से ओत-प्रोत होकर अपना सर्वस्व लगा देंगे|

सुरक्षा बजट का बड़ा हिस्सा सैन्य उपकरणों और हथियारों की खरीद पर खर्च

उल्लेखनीय है कि साल 2019-20 में मोदी सरकार ने देश की सुरक्षा के लिए करीब 3 लाख करोड़ रुपए का रक्षा बजट निर्धारित किया था| इस बड़े बजट का बड़ा हिस्सा सिर्फ सेना के उपकरणों और हथियारों की खरीद पर खर्च होता है|

CDS रावत और NSA डोभाल दोनों उत्तराखंड से

बता दें कि देश के पहले चीफ ऑफ़ डिफेंस स्टाफ (CDS) विपिन रावत और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल, दोनों उत्तराखंड से ही हैं| देश के सुरक्षा के लिए अहम् नीतियों को बनानेवाले और प्रधानमंत्री मोदी के करीबे समझे जाने वाले ये दोनों दिग्गज उत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल इलाके से आते हैं| इसलिए राज्य सरकार द्वारा बनाये जा रहे डिफेंस एक्विपमेंट इंडस्ट्री पॉलिसी को फलीभूत करने में इन दोनों का खासा रोल होगा|