उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ करवाएंगे एक लाख बेटियों का सामूहिक विवाह

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

CM Yogi

बीते कुछ सालों से उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गरीब परिवार की बेटियों के लिए सामूहिक विवाह का आयोजन करवाते आ रहे है| इस बार भी योगी सरकार सामूहिक विवाह का आयोजन करवाने जा रही है और इस बार यह आयोजन और भी भव्य, धूमधाम व गरिमापूर्ण तरीके से आयोजित करने की तैयारियां चल रही है| योगी सरकार ने अगले वर्ष मार्च तक एक लाख बेटियों की शादी कराने की योजना तय की है|

सूत्रों के अनुसार इस आयोजन के तैयारियों के सम्बन्ध में 4 शुभ तिथि तय की जाएगी और इन तिथियों पर बड़े स्तर पर आयोजन किया जायेगा| इस योजना की तैयारियों के सम्बन्ध में प्रमुख सचिव समाज कल्याण, मनोज कुमार ओर शासन व फील्ड के अफसरों को इसकी जानकारी दे दी गई है| इसे सफल बनाने हेतु सभी जिलाधिकारियों को को विशेष तौर से निर्देश दिए गए हैं|

2 लाख परिवारों से बातचीत

इस सामूहिक विवाह के ज़रिये योगी 2 लाख परिवारों से पहुँच बना सकेंगे| ज़ाहिर सी बात है, जब एक लाख लड़कियों की शादी होगी तो एक लाख लड़कों के परिवारों के साथ भी योगी अपनी पहुँच बना सकेंगे| सामूहिक विवाह योजना में सरकार के मंत्रियों, सांसदों और विधायकों की सक्रिय भागीदारी रहेगी।

विवाह के लिए लड़कियों के नाम की सूचि के लिए सभी जिलों से रिपोर्ट मांगी गई है| रिपोर्ट की समीक्षा के बाद तय होगा कि किस जिले में कितनी बेटियों का सामूहिक विवाह होगा| आपको बता दें की पिछले वर्ष 9 फ़रवरी को सामूहिक विवाह योजना के तहत 10 हजार बेटियों की शादी होनी थी जबकि 15 हज़ार बेटियों की शादी की गई|

प्रत्येक बेटी की शादी पर 51 हज़ार खर्च

मुख्यमंत्री सामूहिक विकास योजना के तहत योगी आदित्यनाथ ने पहले प्रत्येक बेटी की शादी पर 35 हज़ार खर्च करने की रकम तय की थी पर पिछले गणतंत्र दिवस पर उन्होंने इस राशि को बढ़ाकर 51 हजार रुपये करने का एलान किया था। इसका मतलब अब जो सामूहिक विवाह होगा उसमे प्रत्येक बेटी पर 51 हज़ार रुपये सरकार खर्च करेगी|

हमारे समाज में बेटी की शादी किसी भी परिवार के लिए सबसे बड़ी जिम्मेदारी होती है। पर कुछ लोग गरीब होने के कारण इन जिम्मेदारियों को ठीक तरह निभा नहीं पाते है| ऐसे में योगी सरकार कि ये योजना उनके जिम्मेदारियों का निर्वहन करती है| अगर गौर करें तो सामूहिक विवाह के कारण हमारे समाज की सबसे बड़ी कुरीति दहेज़ प्रथा पर भी रोक लगती है |

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •