जलवायु परिवर्तन से निपटने की प्रतिबद्धता पर मोदी की फैन हुईं US स्पीकर

Nancy Pelosi

जलवायु परिवर्तन की चुनौतियों से लड़ने के लिए पूरी दुनिया एकजुट होने लगी है और भारत इस मिशन का नेतृत्व करने वाले देशों में से एक है। जलवायु परिवर्तन के लिए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा उठाए जा रहे कदमों की अब अमेरिका में भी प्रशंसा की जा रही है। अमेरिकी प्रतिनिधि सभा के अध्यक्ष नैंसी पेलोसी ने पीएम मोदी की बहुत प्रशंसा की है और प्रकृति को बचाने में किए जा रहे प्रयासों की सराहना की है। नैंसी पेलोसी ने कहा, ‘पृथ्‍वी के लिए खतरा पैदा करने वाले चुनौतियों से वे बेहतर तरीके से निपट रहे हैं, और इसके लिए उनकी प्रतिबद्धता सराहनीय है।’ जलवायु परिवर्तन पर समझौते को सुनिश्चित करने में पीएम मोदी द्वारा दिखाई गई ‘‘प्रतिबद्धता’’ का उल्लेख करते हुए पेलोसी ने कहा कि यह आसान नहीं था, लेकिन यह किया गया।

महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती पर वाशिंगटन में भारतीय दूतावास द्वारा ऐतिहासिक ‘लाइब्रेरी ऑफ कांग्रेस’ में आयोजित एक कार्यक्रम में संबोधन के दौरान, नैंसी पेलोसी ने कहा कि नरेंद्र मोदी ने जलवायु परिवर्तन के मुद्दे पर महात्मा गांधी के मूल्यों को बरकरार रखा है। पेलोसी ने अपने भाषण में कहा, ‘उन्होंने (मोदी) हमें बताया कि चाहे जल संरक्षण हो या जो कुछ भी हो, गांधी ने प्रकृति का मूल्य और इस बात को समझा कि हमें उसका सम्मान करना होगा।’ उन्होंने कहा कि अगर गांधी आज जीवित होते, तो वह इस चुनौती से निपटने के लिए आंदोलन का नेतृत्व करते। आपको बता दें कि नैंसी पेलोसी ने डोनाल्ड ट्रम्प के खिलाफ महाभियोग को मंजूरी दे दी थी, इसके अलावा वह ट्रम्प के कई फैसलों को लागू करने से रोकती रही हैं।

उन्होंने कहा कि जब पीएम मोदी ने अमेरिकी कांग्रेस के सत्र को संबोधित किया, तब जलवायु परिवर्तन पर चर्चा हुई। इस दौरान पीएम मोदी ने महात्मा गांधी और उनके साथ जलवायु परिवर्तन पर खुलकर चर्चा की। जिसमें उन्होंने स्वच्छता के साथ-साथ जल संरक्षण के मुद्दों पर बहुत बारीकी से छुआ।

Pelosi-Embassy-Statue

नैंसी पेलोसी अमेरिका में भारतीय दूतावास में एक कार्यक्रम को संबोधित कर रही थीं, जहां भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर भी शामिल थे। इस अवसर पर भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर ने पेलोसी को महात्‍मा गांधी की प्रतिमा भेंट की। जयशंकर ने इस दौरान कहा कि जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दुनिया के बड़े मंचों पर शौचालयों के बारे में बात की, तो बहुत आलोचना हुई, लेकिन महात्मा गांधी का भी मानना था कि स्वच्छता बहुत महत्वपूर्ण है। जयशंकर ने कहा कि यदि गांधी जी आज किसी एक चुनौती पर हमें ध्यान केंद्रित करने के लिए कहते, तो वह चुनौती जलवायु परिवर्तन से निपटने की चुनौती होती।’

आपको बता दें कि महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती के मौके पर दुनिया भर में कार्यक्रम आयोजित किए गए थे। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिकी समाचार पत्र न्यूयॉर्क टाइम्स में एक लेख भी लिखा, जिसका शीर्षक था भारत और दुनिया को गांधी की आवश्यकता क्यों है’।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संयुक्त राष्ट्र में अपने भाषण के दौरान जलवायु परिवर्तन पर जोर दिया था और दुनिया को भारत द्वारा उठाए जा रहे कदमों की जानकारी दी थी। भारत में, सौर ऊर्जा, जल संरक्षण, एकल-उपयोग प्लास्टिक प्रतिबंध, और स्वच्छता पर जोर दिया जाता है।