जल जीवन मिशन योजना के तहत 61 जिले में पहुंचा साफ पानी तो इंसेफेलाइटिस मामले भी हुए कम

जल जीवन मिशन महज हर घर नल से जल पहुंचाने का मिशन नहीं बल्कि देश को एक ऐसी बीमारी से मुक्त करने का मिशन भी है जिसके बारे में पहले कि सरकारें कम ही सोचते थे आप सोच रहे होंगे ये हम क्या बोल रहे हैं तो ये सच है क्योंकि मोदी जी की इस एक योजना से आज 5 राज्यों के 61 जिले जापानी इंसेफेलाइटिस बुखार से मुक्त हो गये हैं।

शुद्ध जल की आपूर्ति जापानी इंसेफेलाइटिस बुखार से 61 जिले हुए मुक्त

पीएम मोदी हमेशा ही ऐसी योजना बनाते हैं जिसके लाभ कई सारे हों। इसी क्रम में पीएम मोदी की जल जीवन मिशन योजना का असर दिखने लगा है। जिसके चलते 5 राज्यों के 61 वो जिले जिसमें जापानी इंसेफेलाइटिस बुखार से बच्चे या तो पीड़ित होते थे या फिर काल के कपाल में समां जाते थे। आज ऐसा नहीं हो रहा है, क्योंकि आज इन जिलो में नल से साफ पानी पहुंच रहा है और करीब इसका फायदा 1 करोड़ से अधिक लोग उठा रहे हैं। वैसे महीनों के दौरान देश में नल के पानी के कनेक्शन देने में राष्ट्रीय औसत 23.43% की वृद्धि से लगभग 12% अधिक है। ये 61 जिले उत्तर प्रदेश, बिहार, असम, तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल राज्य के हैं। साल 2019 में स्वतंत्रता दिवस पर दिए गए अपने भाषण में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने घोषणा की थी कि 2024 में उनका दूसरा कार्यकाल पूरा होने तक उनकी सरकार ग्रामीण भारत के हर घर में नल का साफ पानी उपलब्ध कराएगी इसी के चलते लगातार देश के सीमा से जुड़े इलाके हो या फिर मैदानी हर जगह तेजी से नल से जल पहुंचाने का काम किया जा रहा है।

दशकों पुरानी है इंसेफेलाइटिस की समस्या

इंसेफेलाइटिस जिसे हम जापानी बुखार के नाम से भी जानते हैं ये देश में दशकों पुरानी बीमारी है। जिसे खत्म करने के लिए मोदी सरकार से पहले की सरकारों ने करोड़ रूपये का फंड खर्चा किया था हालाकि नतीजा उसका शुन्य ही निकला क्योंकि इस रोग की जड़ से खत्म करने के लिये किसी ने प्रयास नहीं किया था जिसके बाद मोदी सरकार के आने के बाद साफ पानी पहुंचाकर इस इलाके की सबसे बडी समस्या पर वार किया गया। साफ पानी के आने के बाद अब इन जगहों पर इस बीमारी का असर धीरे धीरे घट रही है। खासकर यूपी में इसका असर सबसे ज्यादा देखा जा रहा है जहां इंसेफेलाइटिस के मामले तेजी के साथ गिरे हैं जो की एक अच्छी खबर है। तो दूसरी तरफ पीएम मोदी की दूरदर्शिता को भी दर्शाता है जिन्होंने जड़ में जाकर इस बीमारी को खत्म करने की मुहीम चलाई और उसमें वो अब सफल हो रहे हैं।

वैसे पीएम मोदी जब से सत्ता में आये हैं तब से ही ये बात देशवासियों को समझा रहे हैं कि अगर स्वच्छता को देश अपनाता है तो सैकड़ो बीमारी यूं ही खत्म हो जायेगी और ऐसी बीमारियों के रोकथाम पर करोड़ रूपये भी खर्च नही करने होंगे। जल जीवन मिशन के तहत पीएम मोदी ने ऐसा करके भी दिखा दिया है और तेजी के साथ हर घर नल 2024 तक पहुंचे इस लक्ष्य को पाने में भी लगी हुई है।