समय से पहले 8 करोड़ घरों को उज्जवल किया उज्ज्वला योजना ने

Ujjwala scheme

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के उन योजनाओं में से एक है जिसने आम आदमी के जन-जीवन में क्रांतिकारी परिवर्तन लाने में अहम् भूमिका निभाई है| इस योजना ने अपने निर्धारित समय से पहले देश के 8 करोड़ घरों को उज्जवल कर दिया है| मोदी सरकार ने तय समय सीमा से 7 महीने पहले अपने लक्ष्य को प्राप्त कर लिया|

आधिकारिक बयान के मुताबिक आज शनिवार को प्रधानमंत्री मोदी 8 करोड़वां कनेक्शन महाराष्ट्र के औरंगाबाद में खुद ही अपने हाथों से लाभार्थी को सौपेंगे|

प्रधानमंत्री मोदी की उज्ज्वला योजना ने देश के 8 करोड़ परिवार की महिलाओं को न सिर्फ एक गैस कनेक्शन की सौगात दी है| बल्कि ये भी सुनिश्चित किया है कि इन 8 करोड़ परिवारों के रोजमर्रा के जीवन में सुधार हो और उनके स्वास्थ्य पर धुआँ पैदा करने वाले चूल्हे से प्रतिकूल प्रभाव न पड़े|

उल्लेखनीय है कि महिलाओं के लिए धुआँ रहित चूल्हे के महत्व पर राम मनोहर लोहिया ने संसद में कार्यवाही के दौरान इंदिरा गांधी को कहा था कि, “अगर आप हिंदुस्तान की महिलाओं को धुआं रहित चूल्हा दे दो, अगर उनके लिए शौचालय बनवा दो, तो कोई आपको 25 साल तक प्रधानमंत्री के पद से हटा नहीं सकता”|

उज्ज्वला योजना से कम हुई सांस की बीमारियाँ – इंडियन चेस्ट सोसाइटी

इंडियन चेस्ट सोसाइटी के द्वारा किये गए रिसर्च के मुताबिक प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना ने रसोई में काम करने वाली महिलाओं और उनके साथ रहने वाले पाँच साल के बच्चों की सेहत में महत्वपूर्ण सुधार आया है|

PM मोदी की उज्ज्वला योजना का कमाल, महिलाओं में बीमारी दर 10 फीसदी घटी

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना की शुरुआत 1 मई 2016 को हुई थी। आरम्भ में योजना का लक्ष्य था, 5 करोड़ परिवारों के महिला सदस्यों को मार्च 2019 तक कनेक्शन देने का लक्ष्य रखा गया था। बाद में इस लक्ष्य को बढाकर मार्च 2020 तक 8 करोड़ कनेक्शन बांटने का कर दिया गया था।