‘द कश्मीर फाइल्स’ में सत्य दिखाया गया : पीएम मोदी

‘द कश्मीर फाइल्स’ एक ऐसी मूवी जिसने फिर से कई सवाल खड़े कर दिये है कि आखिर कश्मीर को लेकर पहले की सरकारे इतनी उदासीन क्यों रही है। कश्मीरी पंडितों पर हुए जुर्म पर सवाल क्यों नही पूछे गये। लेकिन जब ऐसे सवालो को आज पूछा जा रहा है तो कुछ लोग इसे देस में माहौल खराब करने वाली फिल्म बता ने में जुटे है। हालांकि खुद अब पीएम मोदी ने इस फिल्म की जमकर तारीफ करते हुए कहा कि कश्मीर फाइल्स की तरह और भी बेहतरीन सिनेमा बनना चाहिए, ताकि घटनाओं का सच सबके सामने आ सके।

सत्य सामने आया: मोदी

एक बार फिर से कश्मीर का मुद्दा देश में गरमाया है लेकिन ये पहली बार है जब मासूम पत्थरबाजों या फिर फौज पर सवाल नहीं खड़े हो रहें है। बल्कि कश्मीर में उस सच्ची घटना पर बात हो रही है। जिसने देश की एकता और लोकतंत्र को सबसे ज्यादा घात पहुंचाया था। बात हो रही है कश्मीर पंडितों की जिन्हे साल 1990 में सियासत के चलते भंयकर हिंसा का शिकार होना पड़ा तो दूसरी तरफ देश के शासक इसपर मूकदर्शक बने रहे। आलम ये था कि बस एक तरीके के तौर पर कश्मीर पंडितों के दर्द को कुछ लोग जंतर मंतर पर उठाते रहे। लेकिन आज द कश्मीर फाइल्स के जरिये वो सब लोग चुप है जो उस वक्त धृतराष्ट्र की भूमिका में थे, आज उनकी पोल खुल गई है। खुद पीएम मोदी ने तारीफ करते हुए कहा कि कश्मीर फाइल्स की तरह और भी बेहतरीन सिनेमा बनना चाहिए, ताकि घटनाओं का सच सबके सामने आ सके। नरेंद्र मोदी ने हाल ही में र‍िलीज हुई बॉलीवुड फिल्‍म ‘द कश्‍मीर फाइल्‍स’ की जमकर तारीफ की। उन्‍होंने कहा कि जिसको लगता है कि यह फिल्म ठीक नहीं है, वह अपनी दूसरी फिल्म बनाएं। पीएम मोदी ने कहा, ‘उनको हैरानी हो रही है, जिस सत्य को इतने दिनों तक दबा कर रखा गया, जिसे तथ्यों के आधार पर बाहर लाया जा रहा है, कोई उसे मेहनत करके ला रहा है। ऐसे में सत्य के खातिर जीने वाले लोगों की जिम्मेदारी है कि सत्य के खातिर वे खड़े हों। यह जिम्मेदारी मुझे है हर कोई निभाएगा।’

पीएम मोदी ने वंशवाद की राजनीत‍ि को बताया लोकतंत्र के ख‍िलाफ

इसके साथ साथ पीएम मोदी ने इस मीटिंग में कहा कि भारतीय जनता पार्टी वंशवाद की राजनीति के खिलाफ है और हाल में संपन्न विधानसभा चुनावों में उनके कारण पार्टी के कई सांसदों के बेटे-बेटियों को टिकट नहीं मिल सका। लेकिन पीएम ने ये भी बोला कि उनकी पार्टी किसी नेता के परिवार का सदस्य आता है तो उस पहले संगठन में काम करना होगा जिससे वो पार्टी की सेवा के भाव को अच्छी तरह समझ ले और यही हमारी ताकत है जो भी हमारे यहां आज सत्ता में है वो पहले पार्टी को बनाने के लिये काम करते है लोगों के बीच में जाकर उनकी सेवा करते है।

इस दौरान पीएम मोदी ने सीधा संदेश दिया है कि अब देश में सत्य को दिखाया जायेगा जिससे लोग भारत के इतिहास को समझ सके।