आज बाबासाहेब भीमराव आम्बेडकर के 64वें पुण्यतिथि पर प्रधानमंत्री मोदी ने दी श्रद्धांजलि

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

PM paying homage to Babasaheb Dr. B.R. Ambedkar on his  Mahaparinirvan Diwas

राष्ट्र आज बाबासाहेब भीमराव आम्बेडकर के 64वें पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि अर्पित कर रहा है। सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय ने आज संसद भवन में पुष्पांजलि कार्यक्रम आयोजित किया है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने आज सुबह संसद भवन परिसर में डॉ. आम्बेडकर की प्रतिमा पर श्रद्धा सुमन अर्पित किए। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी उनकी प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित की।

लोकसभा अध्य़क्ष ओम बिड़ला, पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह, सामाजिक न्यासय और अधिकारिता मंत्री थावरचंद गहलोत, संसदीय कार्यमंत्री प्रह्लाद जोशी और सांसदों ने भी श्रद्धा सुमन अर्पित किए। इसके अलावा सैंकड़ों लोग भी बाबा साहेब को पुष्पांजलि अर्पित कर रहे हैं।

उप राष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने ट्वीटर पर कहा कि लोगों को डॉ. आम्बेवडकर के विजन और शिक्षाओं से प्रेरणा लेनी चाहिए। उन्होंने कहा कि आज बाबा साहेब को अर्पित किए जाने वाले श्रद्धा सुमन तभी सार्थक होंगे जब लोग उनके आदर्शों पर चलें और सार्वजनिक जीवन में बाबा साहेब के जीवन मूल्य तथा नैतिकता का अनुकरण करें।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ट्वीटर पर कहा कि बाबा साहेब ने अपना जीवन सामाजिक न्याकय के लिए समर्पित कर दिया था। उन्होंने कहा कि संविधान के रूप में देश को अनूठा उपहार दिया जो भारतीय लोकतंत्र का आधार स्तंभ है। राष्ट्र हमेशा उनका आभारी रहेगा।

पीएम मोदी ने वीडियो में कहा कि पूजनीय बाबा साहेब आंबेडकर ने हमें इतना व्यापक और विस्तृत संविधान दिया, वह आज भी टाइम मैंनेजमेंट और प्रोडेक्टिवटी का एक उदाहरण है। वह हमें भी अपने दायित्तवों को रिकॉर्ड समय में पूरा करने के लिए प्रेरित करता है।

महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने डॉक्टर भीमराव आम्बेडकर के पुण्यतिथि पर उन्हें श्रद्धांजलि दी। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि इंदु मिल परिसर में बाबा साहेब का प्रस्तावित स्मारक सामाजिक न्याय और समानता के इच्छुक लोगों के लिए प्रेरणा के रूप में काम करेगा।

बता दे कि बाबा साहेब आम्बेडकर का जन्म 14 अप्रैल 1891 को मध्य प्रदेश के महू में और उनका निधन 6 दिसंबर 1956 को दिल्ली में हुआ था। उनकी पुण्यतिथि महापरिनिर्वाण दिवस के रूप मे मनाई जाती है। बाबासाहेब अम्बेडकर एक भारतीय न्यायविद्, अर्थशास्त्री, राजनीतिज्ञ और समाज सुधारक थे, जिन्होंने अछूतों (दलितों) के प्रति सामाजिक भेदभाव के खिलाफ अभियान चलाया और महिलाओं और श्रमिकों के अधिकारों का समर्थन किया। वर्ष 1990 में, अंबेडकर को भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से सम्मानित किया गया था।

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •