आज जन जन तक पहुंची है मोदी सरकार की योजनाएं

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

एक दौर हुआ करता था जब बड़ी बड़ी योजनाओं की घोषणा होती थी नारियल फोड़े जाते थे अपने गुणगान के लिये बड़ी बड़ी सभा हुआ करती थी लेकिन उसके बाद वो योजना सरकारी दफ्तर में किसी न किसी अलमारी में दम तोड़ा करती थी। लेकिन मोदी सरकार में पिछले 6 सालो में योजनाए जमीन पर उतरती है और जन जन तक इसका फायदा पहुंचाता है। उदाहरण के तौर पर अब आयुष्मान योजना को ही ले लीजिये चंद साल पहले शुरू हुई इस योजना ने 1 करोड़ गरीबों को आज रोग मुक्त कर दिया है।

पीएम आयुष्मान भारत योजना

इस योजना की जब शुरूआत हुई थी तो कुछ लोग इस योजना का खूब मजाक उड़ा रहे थे लोगों का कहना था कि इस योजना से गरीबों को फायदा नही पहुंचेगा ये केवल बीमा कंपनियो को फायदा देने के लिये योजना बनाई गई है। लेकिन दुनिया की सबसे बड़ी हेल्थ योजना का आज ये असर है कि इस योजना के तहत 1 करोड़ लोग फायदा उठा चुके हैं। सबसे बड़ी बात ये है कि इस योजना का फायदा देशभर में गरीबो ने उठाया है। यहां हम आपको बता दें कि इस योजना के तहत लोगों को 5 लाख रूपये तक का इलाज बिलकुल फ्री किया जाता है। 1 करोड़ लोगों तक योजना का पहुंचना ये साफ बता रहा है कि सरकार का काम बिलकुल ठीक दिशा में हो रहा है।

पीएम आवास योजना

उत्तर हो या पूरब या फिर पश्चिम हो या दक्षिण हर तरफ पीएम आवास योजना के तहत देश में गरीब लोगों के घर बने और बन रहे हैं। मोदी सरकार के आने के बाद सरकार ने घर का सपना गरीबों का पूरा करने के लिये देश में 1.5 करोड मकान बनवाये जबकि सरकार ने 2020 तक सभी का अपना घर हो इस पर  काम करने में लगी हुई है। वही इस साल 2 करोड़ गरीब लोगों को घर देने का लक्ष्य रखा गया है। मतलब इस योजना से भी महज कुछ सालो में करोड़ों भारतीयों का सपना साकार किया है। जो ये बतलाता है कि  देश में मोदी सरकार किस स्पीड से काम करती है।

पीएम जनधन योजना

साल 2014 में सत्ता में आते ही पीएम मोदी ने सबका खाता बैंक में हो इसके लिये पीएम जनधन योजना की शुरूआत की थी इस योजना के तहत देश के गरीब लोग के खाते बिना किसी रकम के खोले गये थे। आज सरकार की इस योजना का फायदा देश के 25 करोड़ गरीब भाई बहन उठा रहे हैं। आलम ये है कि इस योजना के बाद सीधे खाते में पैसा जाने से अब देश से भ्रष्टाचार भी कम हुआ है। क्योंकि बिचौलियों का युग अब खत्म हो गया है। लोगों तक ये योजना आसानी से पहुंची जिसको देखकर यही लगता है कि मोदी सरकार हर योजना को शुरू करने से पहले प्लानिंग बिलकुल ठीक से करती है।

पीएम उज्जवला योजना

महज 6 साल पीछे जाएं या आँख बंद करके देश के बारे में सोचे तो सबसे पहले ख्याल उन महिलओं का आता है जो अपने परिवार को खाना खिलाने के लिए दिनभर लकड़ियां बिनने जंगल में जाती थी और फिर धुएं में बैठकर खाना बनाती थी। ये सोचो तो रुह कांप जाती है कि उन महिलाओं को कितनी दिक्कत होती होगी जो हर रोज इससे दोचार होती थी लेकिन मोदी सरकार के आते ही इन महिलाओं की समस्या को समझा और उज्जवला योजना से इसे सुलझाया भी जिसका नतीजा ये है, कि आज देश में 8 करोड़ ऐसी महिला हैं जो इस योजना का फायदा उठा रही हैं। खासकर कोरोना काल में तो ये योजना किसी वरदान से कम साबित नही हो रही है क्योंकि इन महिलाओं को फ्री में तीन महीने गैस भी सरकार दे रही है।

वैसे ऐसी तमाम योजनायें है जिसके तहत आम लोगों तक सरकार की मदद पहुंच रही है और आमजन के जीवन में बदलाव हो रहे हैं। मतलब हर योजना का सीधा असर जनता तक दिख रहा है तभी तो जन जन में मोदी जी का विश्वास और बढ़ा है और हो भी क्यों न क्योंकि ये सरकार वायदे करती है तो उसे पूरा भी करती है। फिर उसके लिये कितनी भी मेहनत क्यों न करनी पड़े। और ये तो सब जानते हैं कि मोदी जी मेहनत करने में सबसे  आगे रहते हैं जिसका नतीजा ये है कि विश्व भी अब भारत को सम्मान के साथ देख रहा है।


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •