तीन वर्ष में हुनर हाट में तीन लाख कारीगरों को रोजगार के अवसर मिले : ‘मन की बात’ में बोले मोदी

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रविवार को अपने ‘मन की बात‘ कार्यक्रम के जरिए लोगों से बात की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हुनर हाट में भारत की विशालता एवं विविधता के दर्शन होने का जिक्र करते हुए कहा कि पिछले तीन वर्ष में हुनर हाट से करीब तीन लाख कारीगरों को रोजगार के अवसर मिले हैं, जिसमें महिलाओं की काफी संख्या है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘मन की बात’ कार्यक्रम के माध्यम से भारत और विदेश में लोगों के साथ अपने विचार साझा किए। पीएम मोदी ने हुनर हाट से लेकर कॉप 13 तक विभिन्न राज्यों के सभी आयु वर्ग के लोगों की प्रेरित करने वाली कहानियों पर बात की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने मन की बात की शुरुआत ‘हुनर हाट’ के साथ की, जिसका हाल ही में उन्होंने दिल्ली में दौरा किया था। उन्होंने अपने श्रोताओं के साथ साझा करते हुए कहा कि हमारे देश की विविधताओं को अनदेखा नहीं किया जा सकता।

पीएम मोदी ने इस आयोजन में भाग लेने वाले देशभर के कई कारीगरों के साथ बातचीत की। उन्होंने एक दिव्यांग महिला की कहानी साझा की जिनसे वह वहां मिले थे।

प्रधानमंत्री ने कहा कि हुनर हाट में एक दिव्यांग महिला की बातें सुनकर बड़ा संतोष हुआ। उन्होंने मुझे बताया कि पहले वो फुटपाथ पर अपनी paintings बेचती थी। लेकिन हुनर हाट से जुड़ने के बाद उनका जीवन बदल गया। आज वो ना केवल आत्मनिर्भर है बल्कि उन्होंने खुद का एक घर भी खरीद लिया है । हुनर हाट में मुझे कई और शिल्पकारों से मिलने और उनसे बातचीत करने का अवसर भी मिला। मुझे बताया गया है कि हुनर हाट में भाग लेने वाले कारीगरों में पचास प्रतिशत से अधिक महिलाएँ हैं। और पिछले तीन वर्षों में हुनर हाट के माध्यम से, लगभग तीन लाख कारीगरों, शिल्पकारों को रोजगार के अनेक अवसर मिले हैं।

भारतीय व्यजंनों की सराहना की

प्रधानमंत्री मोदी ने आगे कहा कि कला और शिल्प के अलावा हर कोई भारतीय व्यजंनों की विविधता से अभिभूत होता है। मैंने खुद भी वहां हुनर हाट में बिहार के स्वादिष्ट लिट्टी-चोखे का आनन्द लिया। उन्होंने कहा कि भारत के हर हिस्से में ऐसे मेले, प्रदर्शनियों का आयोजन होता रहता है। भारत को जानने के लिए, भारत के अनुभव के लिए, जब भी मौका मिले जरुर जाना चाहिए।

इस वर्ष के हुनर हाट का विषय ‘कौशल को काम’ रखा गया है। पिछले तीन वर्षों में हुनर हाट के माध्यम से लगभग 3 लाख कारीगरों, शिल्पकारों और व्यजंन विशेषज्ञों को रोजगार के अवसर प्रदान किए गए हैं। इन लाभार्थियों में बड़ी संख्या में महिला कारीगर शामिल है।

मोदी ने कॉप -13 आयोजन की सराहना की

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने हाल में प्रवासी पक्षियों को लेकर आयोजित ‘कॉप-13 सम्मेलन’ की सराहना करते हुए कहा कि भारत अगले तीन वर्ष तक इसका अध्यक्ष बना रहेगा। उन्होंने कहा कि भारत पूरे साल कई प्रवासी प्रजाति के पक्षियों का आशियाना बना रहता है। 500 से भी ज्यादा अलग-अलग प्रकार के और अलग-अलग इलाके से प्रवासी पक्षी आते हैं। पिछले दिनों, गांधी नगर में ‘कॉप-13 सम्मेलन’ हुआ, जिसमें इस विषय पर काफी चिंतन-मनन हुआ, मंथन भी हुआ और भारत के प्रयासों की काफी सराहना भी हुई। हमारे लिए गर्व की बात है कि आने वाले तीन वर्षों तक भारत ‘कॉप-13 सम्मेलन’ की अध्यक्षता करेगा।

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •