कुछ ऐसी थी पीएम मोदी की दिवाली

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

This was how PM Modi's Diwali

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हर साल अपनी दिवाली देश के जांबाज जवानों के साथ ही मनाते हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी इस बार भी सीमा पर तैनात जवानों के साथ दिवाली मनाने जा पहुंचे।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जम्मू-कश्मीर के राजौरी जिले में नियंत्रण पर तैनात सैनिकों के साथ रविवार को दिवाली मनाई और कहा कि जवानों के पराक्रम के कारण ही उनकी सरकार वे बड़े फैसले कर पाई जो असंभव माने जाते थे। सैन्य जैकेट पहने मोदी ने जवानों को दिवाली की शुभकामनाएं दीं और मिठाइयां बांटीं। अधिकारियों ने बताया कि प्रधानमंत्री करीब दो घंटे तक वहां रहे और नियंत्रण रेखा (एलओसी) की सुरक्षा में लगे जवानों से बातचीत की। करीब एक हजार जवानों की मौजूदगी में मोदी ने कहा, ”भारतीय रक्षा बलों के पराक्रम के कारण ही केंद्र सरकार के लिए गए निर्णय संभव हो पाया जो कभी असंभव माने जाते थे। उनका इशारा सीमा के उस पर की गई सर्जिकल स्ट्राइक, बालाकोट एयर स्ट्राइक और जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 के विशेष दर्जे वाले प्रावधान को हटाने से जुड़े फैसले की ओर था।

पीएम मोदी ने कहा कि हर कोई अपने परिवार के साथ दिवाली मनाना चाहता है और इसीलिए वह भी अपने बहादुर जवान के यहां पहुंचे हैं और उनका परिवार ये हैं। उन्होंने राजौरी में ‘हॉल ऑफ फेम का दौरा किया और उन जवानों एवं नागरिकों को श्रद्धांजलि अर्पित की जिन्होंने राजौरी एवं पुंछ अपने प्राण न्यौछावर किए।

प्रधानमंत्री ने ‘हॉल ऑफ फेम को ‘पराक्रम भूमि, प्रेरणा भूमि और पावन भूमि करार दिया। बाद में मोदी ने ट्वीट कर कहा, ”भारतीय सेना के वीर जवानों के साथ दिवाली मनाई। इन पराक्रमी जवानों के साथ संवाद करना सदा हर्ष का विषय होता है।

राजौरी में जवाने के साथ वक्त बिताने के बाद पीएम मोदी पठानकोट एयरफोर्स स्टेशन गए, यहां भी वो जवानों से मिले।

नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बनने के बाद दिवाली आमतौर पर सेना के जवानों के साथ मनाते रहे हैं। गौरतलब है कि 2014 में पहली बार प्रधानमंत्री पद का शपथ लेने के बाद मोदी ने तीसरी बार जम्मू-कश्मीर में तैनात सैनिकों के साथ दिवाली मनाई है। 2018 में पीएम मोदी ने भारत-चीन सीमा के नजदीक सेना और आईटीबीपी जवानों संग दिवाली मनाई थी। 2014 में प्रधानमंत्री बनने के बाद मोदी ने जवानों के साथ सियाचिन में दिवाली मनाई थी। साथ ही अनुच्छेद 370 समाप्त होने के बाद यह कश्मीर में उनकी पहली दिवाली है।

जम्मू-कश्मीर के राजौरी और पंजाब के पठानकोट में सेना के जवानों के साथ दिवाली मनाने के बाद शाम को पीएम मोदी दिवाली के मौके पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उप राष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू और पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से मुलाकात की और उन्हें शुभकामनाएं दीं। मोदी ने सभी के साथ अपनी मुलाकात की तस्वीरें ट्विटर पर साझा कीं।

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •