नये भारत की ये तस्वीर है जहां मंत्री जनसेवा को सर्वोपरि मानते है

सच में भारत अब बदला बदला नजर आने लगा है। ये हम सिर्फ इस लिये नहीं बोल रहे है कि आज भारत मे फर्राटे भरते हाइवे है या फिर एक मजबूत सेना या आर्थिक तौर पर हम मजबूत हो रहे है। बल्कि सियासत में जो एक दौर वीवीआई कल्चर का था वो भी खत्म हो गया है तभी पीएम मोदी आम इंसान की तरह गुरूद्वारे मे दर्शन करते है तो उनके मंत्री सफर के दौरान भी सेवा करते नजर आते है। ऐसा ही एक घटना तब घटी जब केंद्रीय मंत्री भागवत कराड एक उड़ान के दौरान बीमार पड़ गए यात्री की मदद की।

हवाई सफर के दौरान जब मंत्री जी ने बताई आम इंसान की जान 

माजरा कुछ यूं है कि इंडिगो की एक दिल्ली-मुंबई उड़ान के दौरान एक मुसाफिर को परेशानी होने लगी और उसकी तबियत खराब हो जाने के कारण उसे चक्कर आने लगे। प्लेन उड़ान भर चुका था ऐसे में आपातकालीन लैडिंग के अलावा कोई विकल्प नही बचा हुआ था। हालंकि इसी प्लेन में चल रहे राज्य मंत्री भागवत कराड भी सवार थे जो बाल रोग विशेषज्ञ भी है। उन्होने आगे आकर यात्री को प्राथमिक इलाज दिया जिससे उसकी तबियत ठीक हो सकी। खुद पीएम मोदी ने मंत्री जी के इस कार्यपर उन्हे ट्वीट करके बधाई दी। पीएम मोदी ने कहा, ‘सदैव, हृदय से एक चिकित्सक, मेरे सहयोगी द्वारा किया गया शानदार कार्य।’ इस पर कराड का कहना है, ‘यात्री का ब्‍लड प्रेशर कम था और उसे लगातार पसीना निकल रहा था। मैंने उसके कपड़े हटाए और पैरों को सीधा किया। इसके बाद उसके सीने में रगड़ना शुरू किया, साथ ही उसे ग्‍लूकोज दिया, इसके करीब 30 मिनट बाद वह ठीक हुआ।

May be an image of 3 people

 

स्मृति ईरानी ने भी की थी बीमार महिला की मदद

इसी तरह अपनी अमेठी यात्रा के दौरान स्मृति ईरानी ने भी एक बीमार महिला की मदद करके सादगी का उदाहरण पेश किया था। अमेठी यात्रा के दौरान जब उन्होने एक महिला को देखा जो बीमार दिख रही थी तो उन्होने तुरंत उसे कफिले में चल रही एंबुलेस के जरिये अस्पताल भेजा। बाद में उन्होने उसका हालचाल भी जाना जो ये बताता है कि जनसेवा की भावना आज के मंत्रीगणो में कूट कूट के भरा हुआ है।

एक जमाना था जब कभी कभी नेताओं के वीआईपी इंतजाम के चलते लोगों की जान चली जाती थी।। अब बदले हुए भारत में आमजन और नेताओं के बीच में दूरियाँ घटी है जो आज दिख भी रही है।