भारत में गरीबों के ग्राफ में आई भारी गिरावट

वैसे तो देश से गरीबी दूर करने के लिए कुछ न कुछ तो सभी सरकारों ने किया है लेकिन जिस तरह से पिछले 6 सालो में मोदी सरकार ने कदम उठाये हैं उसके नतीजे अब दिखने लगे हैं। मोदी सरकार की चलाई गई गरीबों के लिए योजना का ही असर है कि देश में आज 27.3 करोड़ लोग इससे बाहर निकले है खुद UN ने अपनी एक रिपोर्ट में ये बात बताई है।

मोदी राज में गरीबी का गिरा ग्राफ

भारत में गरीबी को लेकर संयुक्त राष्ट्र से एक सकारात्मक रिपोर्ट आई है। रिपोर्ट में बताया गया है कि साल  2005-06 से लेकर 2015-16 के दौरान भारत में 27.3 करोड़ लोग बहुआयामी गरीबी के दायरे से बाहर निकले हैं। यह संख्या दुनिया के किसी भी देश में गरीबों की संख्या में होने वाली सबसे बड़ी कमी है। संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम यूएनडीपी और ऑक्सफोर्ड गरीबी एवं मानव विकास पहल द्वारा जारी किए गए आंकड़ों से पता चलता है कि 75 में से 65 देशों में वर्ष 2000 से 2019 के बीच बहुआयामी गरीबी स्तर में काफी कमी आई है। बहुआयामी गरीबी दैनिक जीवन में गरीब लोगों द्वारा अनुभव किये जाने वाले विभिन्न अभावों को समाहित करती है, जैसे कि खराब स्वास्थ्य, शिक्षा की कमी, जीवन स्तर में अपर्याप्तता, काम की खराब गुणवत्ता,  इन सभी सेक्टर में भारत ने बेहतर काम किया है जिसका ये नतीजा सबके सामने आया है, इसमे कोई दो राय नही कि जिस तरह से पीएम ने साल 2014 में सत्ता संभाली थी उसके बाद से ही देश में गरीबों के दिन बहुरने लगे हैं पीएम किसान योजना हो या पीएम आवास योजना या फिर पीएम उज्ज्वला योजना या फिर स्वच्छ भारत अभियान सभी के पीछे सरकार का बस एक ही मकसद था कि देश के गरीब के जीवन में खुशहाली आये इसकी झलक भी अब दिखने लगी है। वहीं बिचौलियों को बीच से हटाकर मोदी सरकार ने सरकार की सभी सुविधा गरीबो को सीधे पहुंचाने का भी फायदा देखा जा रहा है।

मोदी सरकार की योजनाओ से गरीबों का बदल रहा जीवन

देश ही नही पूरी दुनियां  इस वक्त कोरोना माहामारी से झूझ रही है, कोरोना महामारी से सबसे ज्यादा परेशान भी गरीब लोग हो रहे हैं। लेकिन मोदी सरकार ने जिस तरह से इस काल में गरीबों के लिए योजना बनाई है उसका ही असर है कि देश में मंहगाई भी नही बढी तो दूसरी तरफ गरीब के घरो में चूल्हे भी लगातार जलते रहे। सरकार ने कोरोना संकट के खड़े होते ही ऐलान कर दिया कि देश के सभी गरीबों को गरीब कल्याण योजना के तहत नवंबर तक राशन बिलकुल मुफ्त दिया जायेगा। तो दूसरी तरफ गांव में रहकर ही इनके रोजगार का भी प्रबंध किया गया जिससे इन लोगो की जीविका पर भी कोई असर न पड़े इसके साथ साथ गरीबों के कल्याण के लिए पीएम मोदी के नेतृत्व में कई योजनाएं और काम कर रही है। जिसका असर है कि देश में गरीबो की संख्या में इजाफा की जगह गिरावट देखी जा रही है।

कुल मिलाकर ये कहना गलत नही होगा कि सरकार ने जिन योजनाओं के रूप में गरीबो का जीवन बदलने के लिए एक तरह से बेहतर बुनियाद डाली है उसका असर दिखने लगा है और ये कहा जा सकता है कि आने वाले दिनो में देश में गरीबी न के बराबर रह जाएगी।