दुनिया में हर तरफ सिर्फ भारत के चर्चे

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

कोरोना वायरस ने उन देशों के पसीने छुड़ा दिये हैं, जो ये कहते हुए विश्व में धाक जमाते थे कि वो दुनिया में सबसे ज्यादा शक्तिशाली हैं। फिर वो आर्थिक सेक्टर हो या फिर कोई दूसरा सेक्टर, पर अब  आलम ये है कि आज वो देश ये नहीं समझ पा रहे हैं  कि आखिर इस कोरोना दानव से कैसे निपटा जाये। किसी को कुछ नही सूझ रहा है, ऐसे में भारत एक बार फिर से दुनिया को नई दिशा दिखा रहा है। नया जोश भर रहा है और कोरोना को हराने में एक लीडर की तरह दुनिया के सामने उभरा है।

वर्ल्ड लीडर के तौर पर उभरता भारत

कोरोना से चल रही जंग में भारत न केवल भारत में कोरोना को हराने में लगा है बल्कि समूचे विश्व में इस दानव का अत करने के लिये दूसरे देशों की मदद भी कर रहा है। भारत ने अभी तक 55 देशों में हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन की आपूर्ति कर रहा है। इसके साथ साथ भारत के पीएम फोन के जरिए तमाम देशों के लीडर से बात करके कोरोना को हराने का खाका भी खीच रहे हैं। यही वजह है कि UN आज भारत की तारीफ करके भारत की पीठ थपथपा रहा है। तो कई देश भारत की इस मदद पर भारत को अपना धन्यवाद दे रहे हैं। इस कड़ी में स्विट्जरलैंड का नाम भी जुड़ गया है स्विट्जरलैंड ने अनोखे तरीके से भारत की सराहना की है, शुक्रवार को भारत के सम्मान में स्विस आलप्स के मैटरहॉर्न पर्वत को लेजर लाइट की मदद से तिरंगे से कवर कर दिया जो ये बताता है कि आज एक बार फिर दुनिया के शिखर पर भारत छाया हुआ है।

आर्थिक मोर्चे पर उभरता भारत

वैसे तो कोरोना वायरस के चलते समूचे विश्व की आर्थिक हालात खराब हो गई है विकसित देश हो या विकासशील देश सभी आथिक संकट से गुजर रहे हैं। लेकिन इसके बाद भी आर्थिक जानकार और कुछ आर्थिक संगठन ये मानकर चल रहे हैं कि भारत की आर्थिक स्थिति इतनी खराब नही होगी जितने की दूसरे देशों की होगी। भारत लॉकडाउन के बाद तेजी के साथ आगे बढ़ेगा और अपनी आर्थिक सुधार के चलते विश्व को भी एक नया रास्ता दिखायेगा ऐसा इस लिये हो पायेगा क्योंकि भारत एक कृषि प्रधान देश है यहां कि आर्थिक व्यवस्था में इसका बड़ा योगदान है ऐसे में कयास यही लगाया जा रहा है कि भारत मेक इन इंडिया के दम पर विश्व को अपनी ताकत दिखायेगा।

मतलब साफ है कि इस कठिन समय में भी भारत की सरकार ने जिस तरह से कुशल नेतृत्व दिखाया है उसका ही असर है कि आने वाले दिनो में भारत को उतना बड़ा झटका नही लगेगा जितना दूसरे मुल्कों को लगने वाला है। वैसे इसकी वजह यही है कि समय रहते भारत ने कदम उठाया है फिर वो स्वास्थ संबधित लॉकडाउन का फैसला हो या फिर आर्थिक पैकज की घोषणा कर आर्थिक सहायता पहुंचाना हो.. जिसकी तारीफ आज सभी विश्व के देश कर रहे हैं और भारत के मुरीद हो गये हैं।


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •