दुनिया बुला रही है, भारत के लिये पलके बिछा रही है

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

माननीय नरेंद्र मोदी ने जब से देश की कमान संभाली है तब से दुनिया के सामने भारत की तस्वीर पहले की तस्वीर से बिलकुल अलग पेश हो रही है। मतलब अब भारत को विश्व उस नजर से नही देख रहा है जैसे वो पिछले 65 साल से देख रहा था। आज विश्व भारत की बात सुनता है और ये सब हुआ है हमारे प्रधान मोदी के चलते। सबसे बड़ी बात ये है कि इस छवि को बनाने में नमो ने न ही कोई जंग लड़ी और न ही किसी को नीचा दिखाने की कोशिश की फिर भी आज विश्व में भारत का मान बढ़ रहा है। इसी के चलते भारत को दुनिया के सबसे ताकतवर देशों के समुह में शामिल करने की तैयारी शुरू हो गई है। क्योंकि अमेरिका ने इसपर अपनी सहमती जाता दी है। जिसके बाद G-7को G11 में बदलने का प्रस्ताव किया गया है जिसमे भारत को भी बुलावा भेजा गया है।

विश्व ने माना ‘सुपरपावरभारत का जमाना

जिस तरह से भारत नमो की कमान में आज मानवता की रक्षा के लिये देश ही नही दुनिया के लिये काम कर रहा है। उससे भारत के प्रति विश्व की सोच बदली है। जिस दिन से मोदी सरकार ने कमान संभाली तब से ही दुनिया को वो ऐसे रास्ते पर ले जा रहे हैं जहां दुनिया मानवता के धागे में बंद सके। इसके लिये योग दिवस की शुरूआत हो या विश्व में प्रदूषण की समस्या को खत्म करने के लिये दिये गये सुझाव ये बताते हैं कि भारत कैसे मानवता के लिये काम कर रहा है। इसी का असर है कि आज ताकतवर देशों की लिस्ट में भारत शुमार होने वाला है। भारत की बढ़ती ताकत के कारण अब डोनाल्ड ट्रंप इंडिया को विकसित देशों के समूह G7 में शामिल करना चाहते हैं, ट्रंप ने ऐलान किया है कि सितंबर में होने वाली बैठक से पहले G7 ग्रुप में भारत को भी आमंत्रित किया जाएगा. अभी तक जी 7 समूह में एशिया से सिर्फ जापान शामिल था, लेकिन जल्द ही इसमें भारत की भी एंट्री हो जाएगी। ट्रंप ने जी 7 समूह में भारत के साथ-साथ ऑस्ट्रेलिया, रूस और दक्षिण कोरिया को भी बैठक में आमंत्रित करने का ऐलान किया है।

G-7 है दुनिया का सबसे शक्तिशाली संगठन

G-7 दुनिया की सबसे बड़ी और संपन्न अर्थव्यवस्थाओं वाले सात देशों का मंच है। इसमें फ्रांस, जर्मनी, इटली, जापान, अमेरिका, ब्रिटेन और कनाडा शामिल हैं। जानकारो की माने तो दुनिया की अर्थव्यवस्था इन्हीं देशों के आसपास धूमती रहती है। यहां गौर करने वाली बात ये होगी कि एशिया देशों  में जापान ही इस संगठन में शामिल था लेकिन अब भारत के शामिल होने से एशिया के दो देश इसमे शामिल हो जाएंगे। इतना ही नही इससे देश की अर्थ तंत्र को काफी फायदा भी पहुंचेगा।

एशिया में भारत की बढ़ती शक्ति

G-7 में शामिल हो जाने के बाद एशिया में भारत एक किंग मेकर के रूप में होगा तो चीन की दादागिरी भी एशिया पर कम होगी। वैसे भी भारत आज चीन को कई मामले पर जोरदार टक्कर दे रहा है फिर वो उत्पादन बढ़ाने पर हो या फिर सैन्य सेक्टर की तरफ हो। ऐसे में इस संगठन में आने के बाद भारत का मान विश्व में बढ़ेगा। वैसे भी भारत को आज विश्व में संकटमोचन का दर्जा मिला है जबकि चीन को कोरोना फैलाने के चलते दुनिया राक्षस से कम नही समझ रही है।

बहरहाल मोदी सरकार का करिश्मा सिर्फ देश में ही नही दुनिया में भी चल रहा है। तभी तो भारत को लेकर विश्वास जग में बढ़ा है और सबसे बड़ी बात ये है कि आज 135 करोड़ भारतीय को अपने नेता अपने प्रधान पर विश्वास है और नमो को अपनी देश की जनता की ताकत पर विश्वास है तभी तो भारत हर दिन आगे बढ़ता जा रहा है।


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •