मोदी सरकार के जिन फैसलों को विपक्षियों ने नकारा, उसे वर्ल्ड बैंक ने सराहा

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

विपक्ष देश के कोने कोने में जाकर मोदी सरकार को आर्थिक मोर्चे पर फेल बता रहा है। लेकिन विश्व की कई संस्थाये मोदी सरकार की नीति को बेहतर बता रही है। तो अब विश्व बैंक ने भी मोदी की नीतियों की तारीफ करते हुए एक रिपोर्ट मे कहा है कि आने वाले 2 सालों मे भारत की विकास दर 7.5 फीसदी पर पहुंच जायेगी।   

देश मे विदेशी हालात के चलते जहां हर दिन पेट्रोल के दाम बढ़ रहे है। वही डॉलर भी नये नये आयाम छू रहा है। लेकिन इसके बावजूद भी देश की आर्थिक हलात पर नजर डाले तो लगातार शुभ समाचार ही मिलते हुए दिखाई दे रहे है। इसी क्रम मे अब विश्व बैंक ने एक रिपोर्ट जारी करते हुए कहा कि आने वाले दो सालों मे भारत की विकास दर 7.5 फीसदी रहेगी। विश्व बैंक ने रविवार को कहा कि भारत तेजी से तरक्की कर रहा है। उम्मीद है कि वित्त वर्ष 2018-19 में विकास दर 7.3% रहेगी और अगले दो साल में यह 7.5% तक हो जाएगी।

इतना ही नही  विश्व बैंक ने दक्षिण एशिया पर जारी रिपोर्ट में कहा कि जीएसटी और बैंकों के पुनर्पूंजीकरण को अपनाने से भारत में विकास होने के संकेत मिल रहे हैं। यह और बढ़ने का अनुमान है।रिपोर्ट के मुताबिक, उत्पादन के हिसाब से देखा जाए तो दूसरी तिमाही में मैन्युफैक्चरिंग में 8.8% की तेजी रही, जो पहली तिमाही से 2.7% ज्यादा थी।कृषि और सेवा क्षेत्र में भी तेजी दर्ज की गई। मांग के क्षेत्र में 11.7% की तेजी दर्ज की गई, जो पहली तिमाही से 3.4% ज्यादा रही। साथ ही, दूसरी तिमाही में खपत में 7% की तेजी देखी गई।

 ये सब साफ दिखलाता है कि मोदी सरकार की नीति ही रही कि देश की आर्थिक स्थिति दिन पर दिन ठीक हो रही है। जबकि अगर चार साल पहले के हालात पर नजर डाले तो देश की रेटिंग हर एजेसियों ने गिरा रखी थी। तो घोटालों के चलते देश मे मंहगाई भी खूब बढ़ी हुई थी । बैंकों का बुरा हाल हो रहा था। लेकिन आज हालात बदल चुके है। और ये सब हुआ है मोदी सरकार की कुशल नीति के चलते। तभी तो आज विश्व भी मोदी की तरीफ मे कसीदे पढ़ रहा है।


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •