लालकिले हंगामें के विदेश से जुड़े तार, दिल्ली पुलिस ने किये इस बाबत खुलासे

लालकिले पर हुए हंगामे का सच धीरे धीरे खुलने लगा है जो ये बताता है कि कैसे भारत को बदनाम करने के लिए योजना बनाई गई थी। कैसे विश्व में एक ताकतवर देश के रूप में उभरते हुए भारत की साख खराब करने की कोशिश की जा रही थी। दिशा रवि के बाद कई और नाम सामने आ रहे है जिन्होने इसके लिये साजिश रची थी।

Image result for लालकिले हिंसा

 

दिल्ली पुलिस के पास है पक्के सबूत

दिल्ली पुलिस की माने तो टूलकिट मामले में कुछ खास बाते सामने में आई है जिससे साजिश का पूरा पूरा खुलासा हो गया है। पुलिस की माने तो इस मामले का आरोपी शांतनु किसान आंदोलन के दौरान दिल्ली में मौजूद था। शांतनु 20-27 जनवरी तक टीकरी बॉर्डर पर मौजूद था। इसी तरह जानकारी हासिल हुई है कि दिशा रवि ने WhatsApp पर 10 लोगों का ग्रुप बनाया था। इसके साथ साथ International Farmer Strike नाम से ग्रुप बनाया गया था जिससे ये साफ होता है भारत में दंगे कराने की ISI की अंतरराष्ट्रीय साजिश है इस बाबत पाकिस्तानी दूतावासों की खालिस्तानी आतंकियों के साथ बैठक भी हुई थी और इस साजिश में भारत के कुछ ऑनलाइन न्यूज पोर्टल शामिल हुए थे। वहीं किसान आंदोलन में हो रही फंडिंग की जांच भी तेजी से दिल्ली पुलिस कर रही है जिससे जल्द ही और बड़े खुलासे हो सकता है।

साक्ष्य मिलने के बाद भी कुछ लोग देश विरोधियों के साथ

दिल्ली पुलिस ने लालकिले हंगामे में जितने साबूत हासिल किये है उसी के आधार पर अब गिरफ्तारी की जा रही है। लेकिन अफसोस ये हो रहा है कि इतने सबूत मिलने के बाद भी कुछ लोग अभी भी इन लोगों को मासूम बताने में लगे है ये वही लोग है जिन्हे सिर्फ मोदी विरोध करना है फिर खमियाजा चाहे कितना भी देश को उठाना पड़े ये बस मोदी विरोध के चलते गुनाहगार का भी साथ देते हुए दिखाई देते है। ऐसा CAA,NRC  को लेकर भी देखा गया था जब दिल्ली में हुए दंगों के आरोपियों को भी बचाने के लिये कुछ बुद्धिजीवी और दरबारी पत्रकार उन्हे बचाने में उतर आये थे। हालांकि हकीकत सामने आने के बाद ये लोग फिर पीछे छुप गये। लेकिन एक बार फिर ये लोग मीडिया में छाने के लिये आगे आ गये हैं लेकिन इस बार भी उनका खुलासा हो रहा है।

फिलहाल ये तो साबित हो रहा है कि आंदोलन देश के किसान नही बल्कि वो लोग चला रहे है जिनका किसानों से दूर दूर तक कोई मतलब नही है। वो मोदी सरकार को गिराकर या अस्थिर करके सिफ देश की रफ्तार को रोकना चाहते है जिससे देश कमजोर हो सके।