मेक इन इंडिया से बने हथियारों से दुश्मन का दिल अब दहलेगा

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

कहते है शस्त्र ही शक्ति है, जिस देश के पास जितने अत्याधुनिक हथियार वो देश उतना ही ताकतवर, इस बात को हमारे पीएम मोदी जी अच्छी तरह से समझते हैं, तभी तो उन्होने जब से सत्ता संभाली है, भारतीय सेना के तीनो प्रारूप को मजबूत करने के लिये नये नये हथियार खरीदने की मंजूरी दे रहे हैं। लेकिन अब इसी क्रम में मोदी सरकार मेक इन इंडिया के तहत देश में ही हथियार बनाने पर ज्यादा जोर देने जा रही है।

भारत में ही तैयार किये जायेंगे हथियार

आज के युग में वही देश आगे बढ़ सकता है जो अपने बल पर खड़ा हो यानी आत्मनिर्भर हो फिर वो कोई भी क्षेत्र क्यों न हो जो देश आत्मनिर्भर है वो ही विश्व में सबसे आगे खड़ा हो सकता है, इसी कारण से पीएम मोदी देश के हर सेक्टर में मेक इन इंडिया के चलते आत्मनिर्भर बनाना चाहते हैं। इसके लिये सेना ने तय किया है कि वो भारत में ही हथियारों का निर्माण करेगी। इसके साथ साथ देश में बने हथियारों को विदेश में निर्यात करने का भी लक्ष्य तय किया गया है। सरकार ने इसके लिये 35000 करोड़ रूपये कमाने का एक ग्राफ भी बनाया है। वैसे साल 2016-17 में भारत ने निर्यात करके करीब 1500 हजार करोड़ तो 2018-19 में 4500 हजार करोड़ रूपये की रकम भी कमाई थी। आज भारत में बने कई हथियार एशिया सहित विश्व बाजार में धमाल मचा रहे हैं। इसी को देखते हुए ये माना जा रहा है कि भारत रक्षा सेक्टर में भी अच्छा खासा बिजनेस बढ़ा सकता है।

रोजगार बढ़ाने में भी मिलेगी मदद

दूसरी तरफ देखा जा रहा है कि विश्व की बड़ी बड़ी हथियार बनाने वाली कंपनियां भी भारत में अपनी रुची दिखा रही है। वो भारत में खुद कारखाने लगाने में सरकार से बात कर रही है। कयास लगाया जा रहा है कि 24 ऐसी कंपनियां है जो भारत में कारखाने खुलने की हामी भी भर चुकी है। ये सब कंपनियां यूपी में लगी डिफेंस एक्सपो में हिस्सा लेने आई हुई थी।  इससे माना जा रहा है कि देश में रोजगार की संभावनाए भी खूब बढ़ेगी। मोदी सरकार इसके लिये कई प्रकार की छूट भी इन कंपनियों को देने में लगी हुई है। वैसे भारत विश्व का 5वां वो देश है जो अपने रक्षा बजट में सबसे ज्यादा खर्च करता है. अभी भारत करीब 50% रक्षा सामग्री आयात करता है वही 100 फीसदी FDI अनुमति भी रक्षा विभाग को मेक इन इंडिया के तहत दे दी गई है।  वही 2025 तक भारत 130 अरब डॉलर अपनी रक्षा पर खर्च करने की योजना बना रहा है जिससे बड़े बड़े अत्याधुनिक हथियार से हमारे जवान लैस होंगे, जिससे दुश्मन के पसीने छूट जाये।

वैसे पूर्व पीएम अटल जी ने संसद में बोला था कि खतरा न आये इसके लिये ही तो हथियार रखे जाते हैं। शायद उसी बात को आज पीएम मोदी पूरा कर रहे हैं । तभी तो देश के जवानों को दुश्मन से लोहा लेने के लिये नये नये हथियार खरीद रहे हैं, तो अब खुद घर में हथियार बनाकर ये बताना भी चाहते हैं कि भारत पूरी तरह से आत्मनिर्भर बनने के रास्ते पर चल चुका है।


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •