परेशानियों के समंदर में डूबे पाकिस्तान को अमेरिका से मिला नया झटका, अमेरिका ने आर्थिक मदद में 3100 करोड़ रुपये की कटौती की गयी

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Pakistan got a new shock from America

पुरे दुनिया को आतंक के खौफ से डराने वाले पाकिस्तान की हालत बद से बदतर हो गयी है | ऐसा लग रहा है मानो पाकिस्तान के परेशानियों को पंख लग गये हो तभी तो हर दिन पाकिस्तान की परेशानियाँ एक नयी ऊँचाई को छू रही है | अभी पाकिस्तान आर्टिकल 370 के कश्मीर से ख़त्म होने के सदमे को ही नहीं संभल पा रहा है की इसी क्रम में आर्थिक तंगी से बदहाल पाकिस्तान को अमेरिका ने एक और झटका दिया है |

पाकिस्तान के ही एक मशहूर अख़बार एक्सप्रेस ट्रिब्यून के मुताबिक अमेरिका पाकिस्तान को दी जाने वाली आर्थिक मदद में 440 मिलियन अमेरिकी डॉलर यानी करीब 3100 करोड़ रुपये की कटौती करने जा रही है | सूत्रों का कहना है की इस बात की जानकारी एक्सप्रेस ट्रिब्यून ने पाकिस्तान को उसके प्रधानमंत्री इमरान खान के अमेरिका दौरे से पहले ही दे दिया था | पहले से क़र्ज़ में डूबे पाकिस्तान का एक ही सहारा था, अमेरिका और अब तो वो भी उसे झटके ही दे रहा है |

बता दे की अमेरिका के संसद में साल 2009 में केरी लुगर बर्मन एक्ट पारित किया गया था जिसके तहत साल 2010 में पाकिस्तान इनहेंस पार्टनरशिप एग्रीमेंट पर साइन किया गया था | और इसी अग्रीमेंट के अंतर्गत अमेरिका के तरफ से पाकिस्तान को पांच सालों में 7.5 अरब अमेरिकी डालर की आर्थिक मदद मुहैय्या करायी गयी थी | इस साल अमेरिका के तरफ से पाकिस्तान को 4.5 अरब डॉलर की मदद दी जानी थी जिसे अमेरिकी सरकार ने घटाकर 4.1 अरब डॉलर कर दिया है |

अमेरिका को पाकिस्तान से मिला ये झटका नया नहीं है | इसके पहले भी अमेरिका अपने फैसले से पाकिस्तान की नींद उड़ा चूका है | बता दे की पिछले साल सितम्बर में अमेरिका के तरफ से पाकिस्तान की मिलिट्री को दी जाने वाली आर्थिक सहायता में भी अमेरिका ने 300 मिलियन डॉलर की कटौती की थी | और साथ ही अमेरिका की सरकार ने ये भी कहा की हम ऐसा इसलिए कर रहे है क्योंकि पाकिस्तान ने आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं की है|

साथ ही पेंटागन ने भी पाकिस्तान को दी जाने वाली अपनी आर्थिक मदद में एक अरब डॉलर की कटौती कर ली है और उसने ऐसा इसलिए किया क्योंकि पाकिस्तान हक्कानी नेटवर्क को ख़त्म करने में असफल रही |

इस बात से हर कोई वाकिफ है की वर्तमान समय में पाकिस्तान कर्जो के समंदर में डूबा हुआ है | उसकी हालत इतनी ख़राब हो चुकी है की वो अब किसी देश से शायद क़र्ज़ भी न ले सके | ऐसे में अमेरिका के तरफ से ये कटौती पाकिस्तान की मुश्किलों को और बढ़ा रहा है | एक तरफ पाकिस्तान पर परेशानियों का पहाड़ टूट रहा है और दूसरी तरफ पाकिस्तानी सरकार भारतीय सरकार के आर्टिकल 370 के फैसले में अपनी नाक घुसा रहा है | खैर अब देखना ये है की क्या पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान आर्टिकल 370 के मुद्दे को छोड़ कर पाकिस्तान को इस आर्थिक तंगी से उभरने का काम करते है या नहीं |

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •