मेहनत और लगन से एक बीएसएफ जवान के आईएएस बनने की कहानी

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

जीवन में सफलता पाने और अपने सपने को साकार करने का सिर्फ दो ही मूल मंत्र होता है, दृढ संकल्प और कड़ी मेहनत; इसके अलावा कोई और विकल्प नहीं| इसके साथ ही मेहनत के कठिन रास्तों पर धैर्य भी धारण करना होता है और आखिर में निरंतर कोशिश से हम अपने लक्ष्य को प्राप्त करते है|

Harpreet With his Family

वैसे तो सफलता के कई किस्से है पर आज का हमारा किस्सा ज़रा अनोखा है| आज हम आपको एक ऐसे बीएसफ जवान के बारे में बता रहे हैं, जिन्होंने देश की रक्षा करने के साथ-साथ अपने IAS बनने के सपने को साकार किया है|

क्या है बीएसफ जवान के सफलता की कहानी?

बीएसफ जवान हरप्रीत सिंह मूल रूप से लुधियाना के रहने वाले है| उन्होंने ग्रीन ग्रोव पब्लिक स्कूल से पढ़ाई करने के बाद इलेक्ट्रॉनिक्स में बीई डिग्री ली है। इनके पिता जी एक बिजनेसमैन और माता जी पेशे से शिक्षक हैं| हरप्रीत से बात चीत पर उन्होंने बताया कि उन्होंने साल 2016 में एक असिस्टेंट कमांडेंट के तौर पर बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स (BSF) ज्वाइन किया, और उनकी पोस्टिंग भारत और बांग्लादेश की सीमा पर हुई| वो बताते हैं कि सीमा पर देश की रक्षा करना उन्हें अच्छा लगता था, लेकिन उनका सपना एक IAS अफसर बनना था|

इसलिए बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स ज्वाइन करने के बाद भी उन्होंने अपने सपने को पूरा करने के लिए जी तोड़ मेहनत की| वो बताते हैं की सीमा पर ड्यूटी के बाद समय निकाल कर वो अपने लक्ष्य की तैयारी में जुट जाते थे| इस समय में वो अपने पूरा ध्यान सिर्फ अपनी पढाई के तरफ केन्द्रित करते थे और नोट्स पढ़ते थे|

harpreet

और आखिर में हरप्रीत की कड़ी मेहनत रंग लायी और पांचवी बार में उन्होंने सफलता हासिल की| 2018 की सिविल सर्विस के परीक्षा में 19वीं रैंक मिली और साथ ही उन्होंने देश के टॉप 20 में जगह बनाई|

और भी जानकारी देते हुए हरप्रीत ने बताया की साल 2017 में जब उन्होंने सिविल सेवा की परीक्षा दी थी तब उन्हें 454वा रैंक मिला था, और उनका चयन इंडियन ट्रेड सर्विस के लिए किया गया था। जिसके बाद उन्होंने BSF छोड़ दिया और ITS ज्वाइन कर लिया|

एक बात हम अपने पाठकों को कहना चाहेंगे, ऐसा ज़रूरी नहीं होता कि अगर आप एक बार असफल हुए तो आपका सपना टूट जाता है और ख़त्म हो जाता है| अपने सपने को पूरा करने के लिए पहले आपको धैर्य धारण करना होगा और अपने आप को हर परेशानी का सामना करने के काबिल बनाना होगा| सफलता लगातार प्रयास करने वालों को मिलती है, हार मान कर निराश होने वालों को नहीं| हरप्रीत की कड़ी मेहनत और लगातार कोशिश ने अपना असर दिखाया और आज वो अपने लक्ष्य को हांसिल कर चुके है| हमें हरप्रीत से मेहनत और धैर्य के असली मायनों को समझने की ज़रूरत है।

(फोटो साभार : फेसबुक)


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •