रेलवे का बड़ा कारनामा, महज साढ़े चार घंटे में ही बना डाला अंडरपास

केंद्र में मोदी जी की सरकार बनने के बाद से ही भारतीय रेलवे ने एक के बाद एक बड़े रिकॉर्ड दर्ज किये हैं। केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल के नेतृत्व में भारतीय रेलवे शानदार काम कर रही है। यात्रियों की सुविधा को देखते हुए पीयूष गोयल एक के बाद एक बड़ा कदम उठा रहे हैं। इसी बीच एक बड़ी खबर रेलवे को लेकर आ रही है जिसे सुनने के बाद आप भी सोच में पड़ जायेंगे।

रेलवे ने महज साढ़े चार घंटे में अंडरपास न सिर्फ तैयार किया गया बल्कि ट्रेन भी दौड़ा दी गई। सुनने में अचंभा भले लगे लेकिन सहरसा-मधेपुरा रेलखंड के अफसरों ने इसे हकीकत में अंजाम दिया है। खास बात यह है कि रेलवे अफसरों ने न तो किसी नई तकनीक का इस्तेमाल किया और न ही कोई फार्मूला लगाया, बस बेजोड़ प्रबंधन से इस कार्य को संभव बनाया गया।

अंडरपास बनाने के लिए तय समय से आधा घंटा पहले 12 फीट ऊंचा अंडरपास तैयार हो गया। निर्धारित समय से 15 मिनट बाद सुबह 8.45 बजे से दोपहर 1.45 तक का ब्लॉक अंडरपास निर्माण के लिए लिया गया था।

निर्माण पूरा हो जाने के कारण दोपहर 1.15 बजे ही ब्लॉक के समय को रद्द करते ट्रेनों का परिचालन बहाल कर दिया गया। सबसे पहले दोपहर 2.09 बजे पूर्णिया कोर्ट से सहरसा आने वाली डेमू ट्रेन गुजारी गयी। अधिकारियों के अनुसार अंडरपास के अंदर बनाए जाने वाले रोड में कंक्रीट का दीवाल व ऊपर छावनी रहेगा। जिससे बरसात में पानी नहीं लगे।

निर्माण के दौरान निकला सांप

अंडरपास निर्माण के दौरान उस समय अफरातफरी मच गयी जब अधिकारियों और कार्य कर रहे मजदूरों की नजर नाग सांप पर पड़ी। इसके बाद उसे देखने के लिए भीड़ इकट्टा हो गयी। सांप को रास्ता देकर निकाला गया।

फिलहाल लगाया है कॉशन

जहां अंडरपास बनाया गया है, वहां सुरक्षा के ख्याल से कॉशन लगाकर अभी ट्रेनें गुजारी जा रही है। कॉशन लगाने के साथ ट्रेन की रफ्तार 30 किमी निर्धारित की गयी है।

जाम से निजात

अंडरपास बनने के बाद सहरसा-मधेपुरा के बीच अतिव्यस्त मार्ग एनएच 107 में लेवल क्रॉसिंग गिरने से लगने वाले भारी जाम से राहगीरों और वाहन चालकों को निजात मिलेगा। ऊपर से रेल गुजरेगी और नीचे से राहगीरों और वाहन चालकों की आवाजाही होगी। इस व्यवस्था के बाद कभी भी रेल फाटक गिराने की जरूरत नहीं पड़ेगी। वाहनों की आवाजाही बिना रूकावट इस अतिव्यस्त मार्ग मे होती रहेगी।

वंदे भारत ने रेलवे की खूब कमाई करवाई

उल्लेखनीय है कि भारतीय रेलवे इन दिनों कामयाबी के नए नए आयाम छू रही है। भारत में बनी वंदे भारत एक्सप्रेस ने कई बड़े रिकॉर्ड बनाते हुए अभी हाल ही में अपना एक साल पूरा किया। वंदे भारत ट्रेन से भारतीय रेलवे को एक साल में बंपर कमाई हुई है। इस दौरान वंदेभारत एक्सप्रेस की 100 प्रतिशत सीटें भरी रहीं और नई दिल्ली मंडल के अनुसार वंदे भारत ने साल भर में 92.29 करोड़ राजस्व के रूप में आय अर्जित की, जबकि इस ट्रेन की कुल लागत 100 करोड़ रुपए है। वहीं रेलवे इस तरह के काम करके रिकॉर्ड बना रही है।