रूस-यूक्रेन युद्ध में दिख रही तिरंगे की ताकत, पाकिस्तान के छात्रों ने भी हाथों में थामा तिरंगा

देश में कुछ लोग मोदी सरकार की विदेश नीति को हर दिन कोसते हुए नजर आते है लेकिन आज तिरंगे की क्या ताकत है ये यूक्रेन में देखने को मिल रही है जिसके चलते आलम ये है कि भारत में दहशत फैलाने वाले मुल्क पाकिस्तान के छात्र भी हाथो में तिरंगा लेकर अपनी जान बचा रहे है और हां ये बात खुद पाकिस्तान की मीडिया भी मान रही है।

पाक के छात्रों ने थामा भारत का तिरंगा

यूक्रेन में इमरान अपने वतन के लोगों के लिए क्या कर रहे है ये तो उनकी मीडिया ही बता रही है। आलम ये है कि अब वहां रहने वाले पाकिस्तानी छात्र खुद भारत का तिरंगा लेकर अपनी जान बचाने में लगे है। सोशल मीडिया में पाक मीडिया का एक वीडियो इस खबर को लेकर काफी चर्चा में है। वही पीएम मोदी ने साफ किया है कि मानवता के नाते वो भारतीयों के सात साथ पड़ोसी देसों के नागरिकों को भी बचाने में पूरी मदद करेगी। जबकि पाक यूक्रेन में फंसे बच्चो ने तो हाथों में तिरंगा लेकर अपनी जान बचाई है जिसके बाद यूक्रेन और रूस सेना दोनो ने बिना कुछ जानकारी लिये उन्हे जाने दिया है जो ये बतनाने के लिये काफी है कि भारत तिरंगे की आज ताकत क्या है।

भारत आये छात्रों ने भी बताया तिरंगा बना उनके लिए ढाल

विदेश में तिरंगे की ताकत क्या है, यह युद्धग्रस्त यूक्रेन से स्वदेश लौटे छात्र-छात्राओं की बातों से पता लगा है। सोशल मीडिया में  ऐसे कई विडियो सामने आ रहे हैं, जिनमें तिरंगा लगी गाड़ी देख यूक्रेनी और रूसी सैनिक गोलीबारी रोक दे रहे हैं। इतना ही नहीं, भारतीय छात्रों को रास्ता भी दिखाया जा रहा है। भारत लौटे छात्रों का भी कहना है कि तिरंगे की वजह से वे सुरक्षित वापस लौट सके हैं। आगरा के आदित्य सिंह यूक्रेन से भारत लौट चुके है और उन्होने बताया कि उनकी बस में तिरंगा लगा हुआ था जिसे देखकर रूसी सैनिकों ने भी मदद की और रोमानिया तक पहुंचाया जिसके चलते तीन बसे जिसमें 150 छात्र थे वे आज अपने वतन लौट पाये है। इसी तरह यूक्रेन से लौटी छात्रा साक्षी ने बताया कि हमें यूक्रेन में पता चला कि तिरंगे का क्या महत्व है। हमें पहले ही निर्देश मिले थे कि तिरंगा साथ नहीं होगा तो किसी भी पल आप पर भी हमला हो सकता है। मैं भी तिरंगा लगाकर निकली थी, इसलिए सुरक्षित वापसी हो सकी।

ऐसे में अब देश में ही रहने वाले उन लोगों से सवाल है जो ये बोलते थे कि देश में तिरंगा उठाने वाला कोई नही होगा। वो खुद देख ले आज तिरंगा ही भारतीयों के साथ साथ पड़ोसी मुल्क के लोगों का भी रक्षक बन गया है और समूचे विश्व में शान के साथ फहर रहा है।