सेल्फ थ्री से भारत को आत्मनिर्भर बनाने का दिया छात्रों को मंत्र

पीएम मोदी जब भी भारत के भविष्य निर्माण करने वालों के बीच जाते हैं यानी उन युवाओं के बीच जो कल भारत का भाग्य निर्माण करने वाले होंगे तो वे हमेशा उनके बीतर सकरात्मकता की ऊर्जा भरते है जिससे वो आने वाले दिनो में देशहित और अपने लिये कुछ नया कर सके। इस क्रम में आज पीएम मोदी भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, IIT खड़गपुर के 66वें दीक्षांत समारोह के दौरान संस्थान के छात्रों से रूबरू हुए। इस दौरान पीएम मोदी ने उन्हे छात्रों को सेल्फ थ्री का मंत्र दिया।

पीएम ने दिया सेल्फ थ्री का मंत्र

पीएम मोदी अच्छी तरह से जानते है कि कैसे देश को आगे बढ़ाने के लिए देश की जनता को मोटिवेट करना है जिससे वो बेहतर हिंदुस्तान का निर्माण कर सके। इस क्रम में पीएम मोदी ने छात्रों से कहा, ‘जीवन के जिस मार्ग पर अब आप आगे बढ़ रहे हैं, उसमें निश्चित तौर पर आपके सामने कई सवाल भी आएंगे। ये रास्ता सही है, गलत है, नुकसान तो नहीं हो जाएगा, समय बर्बाद तो नहीं हो जाएगा? ऐसे बहुत से सवाल आएंगे। इन सवालों का उत्तर है- सेल्फ थ्री के मंत्र से दे सकते है। पहला- सेल्फ अवेयरनेस, दूसरा- सेल्फ कॉन्फिडेंस और तीसरा- सेल्फलेसनेस. आप अपने सामर्थ्य को पहचानकर आगे बढ़ें, पूरे आत्मविश्वास से आगे बढ़ें, निस्वार्थ भाव से आगे बढ़ें।’ इतना ही नही पीएम मोदी ने बोला कि ‘आप सभी, साइंस, टेक्नॉलॉजी और इनोवेशन के जिस मार्ग पर चले हैं, वहां जल्दबाजी के लिए कोई स्थान नहीं है। आपने जो सोचा है, आप जिस इनोवेशन पर काम कर रहे हैं, संभव है उसमें आपको पूरी सफलता ना मिले। लेकिन आपकी उस असफलता को भी सफलता ही माना जाएगा, क्योंकि आप उससे भी कुछ सीखेंगे।’

समस्याओं के पैटर्न समझने से दीर्घकालिक समाधान

इतना ही नहीं मोदी जी ने साफ की जो क्षमता आप लोगों में है उसके दम पर कल भारत एक बेहतर देश बनकर खड़ा होगा पीएम मोदी ने कहा, ‘इंजीनियर होने के नाते एक क्षमता आपमें विकसित होती है और वो है चीजों को पैटर्न से पेटेंट तक ले जाने की क्षमता। यानि एक तरह से आपमें विषयों को ज्यादा विस्तार से देखने की दृष्टि होती है। समस्याओं के पैटर्न को समझना हमें दीर्घकालिक समाधान की ओर ले जाता है। यह समझ नई खोजों और सफलताओं का केंद्र बन जाती है।’ पीएम मोदी का साफ कहना था कि जो भी नई खोज वो करें उसे लंबे वक्त तक प्रयोग में लिया जाये जिससे एक मजबूत भारत का निर्माण हो सके।

पीएम मोदी ये अच्छी तरह से जानते है कि इन युवा इंजीनियरों में राष्ट्रहित के लिए कुछ करने की इच्छा जगाने भर की देर है फिर तो ये ऐसा कुछ कर जायेंगे जिससे न केवल अपना बल्कि देश का नाम भी विश्व में चमकेंगा बस इसी लिये पीएम मोदी छात्रों को हर मौके पर राष्ट्रवाद और देश के लिये कुछ कर गुजरने का जज्बा जगाते रहते है।