1 हजार 350 करोड़ के आर्थिक पैकेज से कश्मीर में रखी गई विकास की नींव

धारा 370 हटने के बाद से ही कश्मीर घाटी में विकास के लिए मोदी सरकार लगातार कई कदम उठा रही है। जहां लोगों के घरों तक बिजली पहुंचाई जा रही है तो पढ़ाई के लिए नये नये स्कूल कॉलेज भी खोले जा रहे है। इसी क्रम में मोदी सरकार की तरफ से जम्मू-कश्मीर को एक बड़ा तोहफा दिया है। सरकार ने जम्मू-कश्मीर के लिए 1 हजार 350 करोड़ रुपये के आर्थिक पैकेज की घोषणा की है।

जनता को मिलेगा लाभ’

आजादी के बाद से ही कश्मीर सिर्फ विवाद के लिये जाना जाता रहा है लेकिन अब नये भारत में कश्मीर फिर से एक बार स्वर्ग बनने की राह पर चल पड़ा है जिसकी नींव सरकार हर दिन रख रही है। घाटी में रोजगार बढ़े इसके लिये सरकार ने 1,350 करोड़ का आर्थिक पैकेज का ऐलान किया है। आत्मनिर्भर भारत अभियान के अलावा कई बड़े प्रशासनिक कदम भी हमने उठाए हैं, जिससे जनता को आने वाले दिनों में बड़ा लाभ मिलने वाला है। इसके साथ ही एक साल के लिए घाटी के लोगों को बिजली और पानी पर 50% की छूट देने का ऐलान भी किया गया है। इस मौके पर उपराज्यपाल ने कहा कि राज्य के लोगों की समस्याओं को देखते हुए हमने के के शर्मा की अध्यक्षता वाली मीर कमेटी बनाई थी, जिसने कई प्रतिनिधि मंडलों से मुलाकात भी की थी। हमने जो भी फैसले लिए हैं वो लोगों को ध्यान में रखते हुए लिए हैं। इस पैकेज में कई इनोवेटिव निर्णय लिए गए है। यहां की विशेष परिस्थिति को ध्यान में रखते हुए हमने तय किया है कि 5 पर्सेंट का इंट्रेस्ट बिना किसी भेदभाव के देंगे इसमें से 950 करोड़ सीधा यूटी प्रशासन देगा।

मिशन समृद्ध जम्मू-कश्मीर

इसके साथ साथ कश्मीर दूसरे राज्यों की तरह ही तेजी से विकास करे इसके लिये  ट्रांसपोर्ट व्यवसाय को भी मदद प्रदान की जायेगी। साथ ही पर्यटन के लिए एक स्ट्रक्चर बनाया जाएगा। यहां हम आपको बता दे कि मोदी सरकार ने सत्ता में आने के बाद ही बोला था कि वो  समृद्ध जम्मू कश्मीर का निर्माण करना चाहते हैं जिसकी पहल कर दी गई है। एक तरफ आतंक के खात्मे के लिए सरकार और सेना कठोर कदम उठा रही है तो दूसरी तरफ कश्मीर के लोगों के मन में भी ये विश्वास जगाने में कामयाब हो रही है कि कश्मीर के विकास में कोई कोर कसर नही छोड़ा जायेगा। तभी तो हर दिन कश्मीर को लेकर नई नई योजनाओ की घोषणा हो रही है। खासकर घाटी के उन गांवों में जो सीमा से बिलकुल मिले हुए है। आज वहां बिजली पहुंच गई है तो गांव वालो के लिए पीएम आवास योजना के तहत मकान बन रहे है। इन सब कदमो का ही असर है कि कश्मीर के लोग हिंसा को छोड़ मुख्यधारा यानी विकास से जुड़ रहे है।

2014 में मोदी सरकार ने सत्ता में आते ही कश्मीर मुद्दे पर रणनीति बनानी शुरू कर दी थी और उसका ही असर है कि आज कश्मीर में नये नये कारखाने खुल रहे है। लोगो को रोजगार मिल रहा है और आतंक का नामोनिशान मिट रहा है।