देश के जाने माने गणमान्य लोगों टीका लगवाकर अफवाह फैलाने वालो को दिया करारा जवाब

‘सर्वे भवन्तु सुखिनः, सर्वे सन्तु निरामया:’ के मंत्र के बाद आज से भारत में दुनिया का सबसे बड़ा कोरोना को हराने के लिये वैक्सीन अभियान शुरू हो गया है जिसकी शुरूआत खुद देश के पीएम मोदी जी ने की। वैक्सीन को लेकर किसी के मन में कोई भ्रम न रहे इसके लिये खुद एम्स निदेशक रणदीप गुलेरिया सहित कई लोगो ने वैक्सीन लगवाया और ये बताने की कोशिश की कि वैक्सीन को लेकर जो भी गलत प्रचार हो रहा है वो कोरा भ्रम है और इसे लगवाने में डरने की कोई जरूरत नही है।

दिल्ली एम्स निदेशक रणदीप गुलेरिया

देश के सबसे बड़े अस्पताल एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया ने वैक्सीन लगवाकर देशवासियों को संदेश दिया कि कोरोना वैकेसीन पूरी तरह से सुरक्षित है और इस मेक इन इंडिया  वैक्सीन पर हम सब को गर्व करना चाहिये।

वैक्सीन बनाने वाली कंपनी सीरम के सीईओ अदार पूनावाला

सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के सीईओ अदार पूनावाला ने भी कोरोना वैक्सीन का टीका लगवाया है। पूनावाला ने अपने संस्थान में तैयार कोविशील्ड का टीका लगवाया है। पूनावाला ने कैमरे के सामने खुद को वैक्सीन लगवाई है। कोविशील्ड ब्रिटेन की कंपनी एस्ट्राजेनेका के सहयोग से सीरम इंस्टीट्यूट ने बनाई है

पूर्व मंत्री महेश शर्मा को नोएडा में लगा पहला टीका

मोदी सरकार में मंत्री रहे डॉक्टर महेश शर्मा को नोएडा में पहली वैक्सीन लगाई गई इस दौरान उन्होने बोला आज का दिन एक एतिहासिक दिन है क्योकि कोरोना को हराने में भारत पूरी तरह से आत्मिर्भर बन गया है। इसके साथ साथ उन्होने भ्रम फैलाने वालो से सावधान करते हुए बताया कि इस टीके पर संदेह करना पूरी तरह से गलत है क्योकि ये पूरी तरह से सुरक्षित है और इसी लगवाने में हमे गर्व महसूस करना चाहिये।

मेदांता के हेड डॉक्टर नरेश त्रेहान ने लगवाई वैक्सीन

इस क्रम में देश के माने जाने डॉक्टर  नरेश त्रेहान ने गुरूग्राम में वैक्सीन लगवाई और ये बताया कि इस वैक्सीन से किसी तरह का नुकसान शरीर पर नही होने वाला है भारत की वैक्सीन को लेकर किसी तरह का संदेह करना पूरी तरह से गलत है और जो लोग इस वैक्सीन को लेकर भ्रम फैला रहे है उनसे भी हमे सावधान होना पड़ेगा।

वैसे ऐसे तमाम लोग है जिन्होने एक कदम आगे आकर सबसे पहले टीका लगवाकर उन लोगो के गाल में तमाचा मारा है जो टीका बनने के बाद इसपर सवाल खड़ा कर रहे थे।

लेकिन जिस तरह से भारत के लोगो ने कोरोना के खिलाप भारतीय वैक्सीन को हाथो हाथ लिया है उससे ये जरूर है कि अब उन्हे जवाब मिल गया होगा  कि भारत को अपने देश की वैक्सीन पर पूरा भरोसा है और वो इस वैक्सीन को लेकर कोई अफवाह फैलाकर देश का माहौल न खराब करें ।