मोदी राज्य में गरीबों के सपने हो रहे साकार

पिछली सरकारों ने गरीबी हटाने का नारा तो खूब दिया, गरीबों का वोट भी इस नारे से खूब बटोरे लेकिन चुनाव जीतने के बाद भी गरीब गरीब रहा। वैसे हम ये नहीं बोल रहे कि पहले की सरकारों ने इसके लिये योजना नहीं बनाई हो लेकिन जमीनी स्तर में वो इसे नहीं उतार पाये। लेकिन मोदी सरकार पिछले 8 साल से गरीबों के लिए जो योजना बना रही है वो गरीबों तक पहुंच रही है। खासकर पीएम आवास योजना हो या फिर कोरोना काल में गरीबों को फ्री में अनाज देने की योजना हो।

Image

खुद पीएम मोदी गरीबों को करवा रहे गृह प्रवेश

मोदी सरकार के आने के बाद तेजी के साथ गरीबों का घर का सपना पूरा हो रहा है। खुद पीएम मोदी पीएम आवास योजना पर नजर बनाये हुए है। जिसका नतीजा ये निकल रहा है कि देश में लगभग 2.5 करोड़ लोगों को घर मिल चुके है। इसी क्रम में पीएम मोदी ने एमपी में आज करीब 5.21 लाख लोगों को उनका घर सौंपा। खुद पीएम मोदी ने बोला कि कोरोना काल में भी इस योजना की स्पीड कम नहीं हुई तभी तो गरीबों को अपना घर मिल सका है। खास बात ये है कि करीब 2 करोड़ घर गांव के लोगों को मिला है जो ये बताता है कि भारत तेजी के साथ बदल रहा है।

फ्री अनाज देने की योजना

इसी तरह कोरोना काल में गरीबों को शुरू हुई फ्री अनाज देने की योजना भी उन लोगों को मजबूत कर रही है जिनके रोजगार कोरोनाकाल में चले गये थे। विश्व में भारत ही ऐसा देश है जो लगातार दो साल से अपने देश में फ्री अनाज दे रही है। वरना अमेरिका ऐसे देश के राष्ट्रपति बोल रहे है कि उनके पास अनाज की कमी हो गई है। लेकिन भारत में ऐसा कुछ नहीं हुआ। वही सरकार ने अभी तक फ्री अनाज देने पर करीब 2.60 करोड़ रूपये खर्च कर चुकी है तो अगले 6 महीने में करीब 80 हजार करोड़ रूपये खर्च करने जा रही है। जो ये बताता है कि मोदी सरकार गरीबों को लेकर कितनी संवेदनशील है।

यही संवेदशीलता ही है कि सरकार ने आगे भी फ्री में अनाज देने का ऐलान किया है जो एक बेहतर कदम है और इसी वजह से आज देश का गरीब मजबूत हो रहा है।