नये भारत की बदलती भारतीय रेल जो आपके सफर को यादगार बनायेगी

हर दिन भारतीय रेल नये नये आयाम छू रही है, फिर वो स्टेशन की खूबसूरती बढ़ाने की बात हो या फिर साफ सफाई की,  देश के रेलवे स्टेशन आज बिलकुल बदल चुके है। आलम ये है कि हर जगह साफ सफाई भरपूर देखी जाती है। लेकिन अब रेलवे इसके साथ साथ आम लोगों को हाईटेक सुविधा भी देने की तैयारी कर रहा है। अब रेलवे 4 हजार रेलवे स्टेशनों में हाई-स्पीड इंटरनेट सेवा और लोगों को अपने मन मर्जी रेल के कोच में फिल्म टीवी समचार उपलब्ध करने जा रहा है।  

भारतीय रेलवे के ये ऐप्स बना देंगे आपकी जिन्दगी आसान-APPS Best Indian  railway apps which you should download

 देश के 4000 रेलवे स्टेशनों पर शुरू की प्रीपेड वाईफाई सेवा

देश के 4 हजार रेलवे स्टेशन पर अब इंटरनेट सेवा तेजी के साथ चलता हुआ मिलेगा क्योकि रेलटेल ने अपनी प्रीपेड वाई सेवा शुरू कर दी है इसके तहत फिलहाल देश के 4,000 रेलवे स्टेशनों पर यात्री पहले भुगतान करके हाई-स्पीड इंटरनेट सेवा का उपयोग कर सकेंगे। रेलटेल पहले से ही देश के 5,950 स्टेशनों को मुफ्त वाईफाई सेवा दे रहा है जिसका उपयोग कोई भी स्मार्टफोन धारक कर सकता है। इसके लिए उपयोक्ता को OTP आधारित सत्यापन कराना पड़ता है। नई प्रीपेड योजना के तहत उपयोक्ता रोजाना अधिकतम 30 मिनट के लिए 1MBPS की स्पीड पर इंटरनेट का उपयोग कर सकता है। इसके बाद 34 MBPS स्पीड तक के लिए उपयोक्ता को बेहद कम शुल्क का भुगतान करना होगा।

ट्रेनों में आपकी डिमांड पर मिलेंगी पसंदीदा फिल्में

लंबे वक्त से लोगों को जिस सेवा का इंतजार था, अब वह खत्म होने वाला है। ट्रेनों में बहुप्रतीक्षित कंटेंट ऑन डिमांड सेवा इस महीने शुरू की जाएगी। सेवा के तहत चलती ट्रेनों में पहले से लोड की गई बहुभाषी सामग्री के जरिए इन्फोटेनमेंट प्रदान किया जाएगा, जिसमें फिल्में, समाचार, संगीत वीडियो और सामान्य मनोरंजन शामिल होंगे। रेलटेल के सीएमडी पुनीत चावला ने कहा कि बफर-फ्री सेवाओं को सुनिश्चित करने के लिए मीडिया सर्वर को डिब्बों के अंदर लगाया जाएगा। यात्री निजी उपकरणों में उच्च गुणवत्ता वाले बफर-फ्री स्ट्रीमिंग का आनंद ले सकेंगे और समय-समय पर सामग्री अपडेट होती जाएगी।

 

नये भारत की रेल भी अब पूरी तरह से नये अंदाज में आपके सामने है जो आपके सफर को न केवल अरामदायक बनायेगी बल्कि मनोरंजन से भरपूर की आप हमेशा रेल के सफर को याद रखे और ये सब इस लिये हो रहा है क्योकि मोदी सरकार पुरानी बातों को भुलाकर नये नये आयाम छू रही है।