मोदी की अपील से प्रेरित दुल्हन ने ससुराल वालों से की 100 पौधे लगाने की मांग

Plant 100 trees before wedding

किसी भी घर में शादी के समय दोनों पक्षों की तरफ से कई बातें होती हैं, कई वादे किये जाते हैं,और कितनी ही शर्तें रखी जाती है | पर कभी सुना है कि किसी दुल्हन ने अपने ससुराल पक्ष के सामने शर्त रखी हो कि पहले 100 पौधे लगाओ फिर बारात लेकर आना |

सुन कर हैरानी तो हुई होगी आपको? उससे भी ज्यादा हैरान करने वाली बात है कि दुल्हन ने PM मोदी की पर्यावरण सुरक्षा जागरूकता अभियान से प्रेरित होकर उनके अभियान में योगदान देने हेतु इस शर्त को अपने ससुराल पक्ष के सामने पेश किया है।

चलिए आपको दुल्हन के इस अनोखे शर्त के बारे स्पष्ट तौर पर बताते है

मध्य प्रदेश के ग्वालियर शहर की रहने वाली ये दुल्हन जो पेशे से एक शिक्षिका भी है, ने PM मोदी की पर्यावरण सुरक्षा अपील से जागरूक होकर अपनी शादी से पहले अपने ससुराल पक्ष को शर्त रखी और कहा की पहले 100 फलदार और छायादार पौधे लगाएं फिर बारात लेकर आएं।

ज़ाहिर सी बात है कि जिस तरह आप दुल्हन के इस अनूठे शर्त को सुनकर हैरान हो गए, उसी प्रकार जब ससुराल पक्ष को जब दुल्हन की शर्त का पता चला तो वे लोग भी पहले हैरान हो गए। फिर विचार करने के बाद उन्हें दुल्हन के शर्त की गहरायी समझ आयी और दुल्हन की शर्त को मानते हुए उन्होंने यह वादा किया कि वो न सिर्फ 100 छायादार और फलदार पौधे लगायेंगे, बल्कि पौधों का जीवन भर ध्यान भी रखेंगे। ससुराल पक्ष से भरोसा मिलने के बाद दुल्हन मान गई और इसके बाद शादी हुई।

मन की बात कार्यक्रम में मोदी ने की थी पर्यावरण बचाने की अपील

गौर करने की बात ये है कि प्रधानमंत्री का पर्यावरण सुरक्षा अभियान लोगो को किस हद तक जागरूक कर रहा है ये हम इन घटनाओ से ही अनुमान लगा सकते हैं| अपने पिछले कार्यकाल में मन की बात के 46वे प्रसारण में मोदी ने आम जनता से पर्यावरण को बचाने की अपील की थी| उन्होंने कहा था कि पर्यावरण को बचाना हम सबकी सम्मिलित जिम्मेदारी है और अपने पर्यावरण की सुरक्षा के लिए देश की जनता को साथ आना होगा और अपनी साझेदारी और सूझ-बुझ से पर्यावरण को बचाना होगा|

खैर ये तो हम सब जानते है कि एक उत्तम जीवनशैली के लिए शुद्ध पर्यावरण कितना आवश्यक है और इसलिए भी हमें पर्यावरण की महत्ता को समझना चाहिए। PM मोदी के साथ-साथ हमें खुद भी और दूसरों को भी पर्यावरण की सुरक्षा के लिए जागरूक करना चाहिए।