आतंक के विरोध में जारी है सख्त संदेश

कश्मीर को दहलाने की पाकिस्तान की साजिश को बृहस्पतिवार को सुरक्षा बलों ने नाकाम कर दिया। नगरोटा में दो घंटे से भी कम समय में टोल प्लाजा के पास चार आतंकवादियों को मार गिराया गया। पाकिस्तान और उसके यहां से भेजे गए और पाले गए आतंकवादियों के लिए भारत की कार्रवाई साफ संदेश है कि भारतीय सीमा में घुसने का अंजाम सिर्फ मौत है।

सीमा पार आतंकी आयेगा तो जहन्नुम जाएगा

पिछले 6 साल से पाकिस्तान को लेकर जिस तरह का आक्रामक रवैया अपनाया जा रहा है उसका ही असर है कि आज आंतक पर नकेल कसता हुआ दिख रहा है। मोदी सरकार ने फौज को खुली छूट दे रही है कि आतंक फैलाने वालो पर बिलकुल रहम न कियया जाये। साथ ही उनकी मदद करने वालो पर भी सख्त कार्यवाही की जाये जिसके बाद खुद सेना प्रमुख एमएम नरवणे ने भी कहा कि नियंत्रण रेखा  पार करने का प्रयास करने वाले आतंकी जिंदा नहीं बचेंगे और इसी तरह ढेर कर दिए जाएंगे। पिछले कुछ दिन से इसके परिणाम भी देके जा रहे है ऑकड़ो पर नजर डाले तो साल 2020 में अभी तक 200 से अधिक आतंकियों को जहन्नुम पहुंचाया जा चुका है और इसके पीछे भारतीय खुफिया विभाग की बड़ी भूमिका रही है क्योकि उन्ही के चलते भारत के दूसरे राज्यों में  पिछले 6 साल से किसी भी जगह कोई बड़ी आतंकी घटना नही घटी है। हां ये जरूर है कि कश्मीर में आंतकियों से इस दौरान कई मुठभेड़ होती रही है।

पाक की हर चाल को मात देता हिंदुस्तान

पाकिस्तान कश्मीर में शांति और सौहार्द की बात को बेमानी समझता है। यही वजह है कि रह–रहकर कभी सीमा पार से आतंकी साजिश रचता है‚ तो कभी सीजफायर का उल्लंघन कर सीमा पर भारी गोलीबारी कर निर्दोष लोगों की जान लेता है। सर्दियों के दौरान पाकिस्तान आतंकवादियों को भारत भेजने की फिराक में रहता है। अब भी वह यही हरकत कर रहा है। तीन दिन पहले ही दिल्ली में जैश के दो आतंकी पकड़े गए थे। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने दो आतंकियों को गिरफ्तार किया था। दोनों के पास से कुछ दस्तावेज और विस्फोटक बरामद हुए थे। गिरफ्तार किए गए दोनों आतंकी संगठन जैश–ए–मोहम्मद से जुड़े बताए गए थे। 6 नवम्बर को भी दक्षिणी कश्मीर के पुलवामा जिले के पंपोर इलाके में आतंकियों और सुरक्षा बलों की मुठभेड़ हुई थी। इसमें एक आतंकी को मार गिराया गया था। जो ये साफ बताता है कि पाक के नापाक मनसूबे अब पूरे नही होने वाले है।

मोदी सरकार ने आतंक को खत्म करने की जो इच्छाशक्ति दिखाई उसका ही असर है कि आज आतंकवादी और आतंक को मदद करने वाला पाकिस्तान के सुर बदले है क्योकि वो अच्छी तरह से जान चुके है कि मोदी जी के रहते भारत में अशांति फैलाना बहुत कठिन है।

Leave a Reply