न कंट्रोवर्सी, न PR, न JNU का वामी सहारा; फिर भी तानाजी ने मारी बाजी

कल शुक्रवार को दो फ़िल्में (छपाक और तानाजी) एक साथ रिलीज़ हुई; दोनों सच्ची घटनाओं पर आधारित| पहली फिल्म ‘छपाक’ समाज की एक ज्वलंत समस्या पर तो दूसरी फिल्म ‘तानाजी’ हमारे इतिहास के एक गुमनाम पर महान योद्धा की जीवन गाथा पर|

पहले दिन की कमाई में 10 करोड़ का अंतर

अब जबकि तानाजी और छपाक की ओपनिंग डे की कमाई के आंकड़े सामने आ चुके हैं तो दोनों फिल्मों की कमाई में काफी बड़ा अंतर देखने को मिल रहा है| बॉक्स ऑफिस इंडिया के अनुसार तानाजी ने पहले दिन 16 करोड़ रुपए कमाए, तो छपाक ने 6 करोड़ रुपए से अपना खाता खोला है| दोनों फिल्मों की पहले दिन की कमाई के बीच तकरीबन 10 करोड़ का अंतर सामने आया है|

पब्लिसिटी और ऑफलाइन PR में खासा अंतर के वावजूद तानाजी आगे

जहाँ छपाक के लिए खासी पब्लिसिटी हुई, PR एजेंसी ने सोशल मीडिया से लेकर ऑफलाइन पब्लिसिटी में कोई कसर नहीं छोड़ी| फिल्म की अभिनेत्री दीपिका पादुकोण ने JNU में हुई हिंसा के बाद उपजे वामी विरोध में शामिल होकर जलती आग में घी डाल कर विवादों को भी जन्म दिया|

वहीँ दूसरी तरफ तानाजी ने साफ़-सुथरी और सिर्फ जरुरी पब्लिसिटी ही की| न तो कोई गैरजरूरी विवाद, न ही किसी तरह के क्षेत्रवाद और किसी अन्य मुद्दे को हवा दी गयी| सिर्फ अच्छी कहानी, अच्छा अभिनय, साथ में बेहतरीन स्पेशल इफेक्ट्स के साथ ये फिल्म लोगों को लुभा रही है|

तानाजी की पब्लिसिटी और PR का एक उदाहरण आज उस समय देखने को मिला, जब इंदौर में मल्टीप्लेक्स से निकलते हुए एक दर्शक (जो फिल्म तानाजी देख कर बाहर निकल रहा था) ने बताया की उन्हें तो पता भी नहीं था कि फिल्म में सैफ अली खान भी हैं|

तानाजी अजय देवगन की 100वीं फिल्म

उल्लेखनीय है की तानाजी अजय देवगन के करियर की 100वीं फिल्म है| अपनी हर फिल्मों में जी-जान लगाकर अपना सर्वस्व देने वाले अजय देवगन ने अपनी 100वीं फिल्म में कोई कसर नहीं छोड़ी है| अपने 99 फिल्मों के अनुभव, तकनीक और स्पेशल इफेक्ट्स में हॉलीवुड की फिल्मों को टक्कर देने फिल्म तानाजी, वीर शिवाजी के सिपहसालार और उनके मित्र तानाजी की एक ऐसी अप्रतिम विजयगाथा पर आधारित है जिसके किस्से न सिर्फ इतिहास के पन्नों में सुनहरे अक्षरों में दर्ज हैं बल्कि मराठा क्षेत्र के अलावा देश के बाकी हिस्से में भी बड़े गर्व से लोग सुनते और सुनाते हैं|