चिठ्ठी न कोई सन्देश जाने वो कौन सा देश कहां तुम चले गये

शुक्रवार का दिन देश के लिये बहुत भारी पड़ा क्योकि आज के दिन काल के कपाल…