भूमि पूजन से पहले अवध बनी ‘त्रेतायुग की राम नगरी’ 

रहा एक दिन अवधि कर अति आरत पुर लोग। जहँ तहँ सोचहिं नारि नर कृस तन…