खुली रही बाजार भारत बंद करवाने वालों के साथ नहीं हिंदुस्तान

एक बार फिर इन लोगों की पोल खुल चुकी है जिनका काम भारत का विकास करना…

विरोध का ये कैसा पैमाना ?

आजादी के बाद देश की सियासत में ऐसा दौर पहले कभी नहीं आया जब सिर्फ सत्ता…

गणतंत्र दिवस के दिन वो हुआ जिसे लिखने में भी शर्मसार हो रहे हैं हम

आज जो भी लिख रहा हूं वो बेशर्मी की कमल से, शर्मिदगी की स्याही से लिख…

कौड़ी के भाव बिक रही थी गोभी, नए कृषि कानून का असर, 10 गुना अधिक मिला दाम

बिहार के समस्तीपुर जिले में अपनी गोभी की फसल का मनमाफिक दाम ना मिलने के कारण…

कृषि सुधारों पर सस्ती सियासत का दौर दिख रहा दिल्ली की सीमा पर

 कृषि और किसानों के कल्याण के लिए लाए गए तीन नए कानूनों के विरोध में पंजाब…

क्या किसानों को सियासी मोहरा बनाया जा रहा है?

बिहार चुनाव रैली हो या बनारस के मंच हो या फिर मन की बात या फिर…

पीएम मोदी की मानी बात, बदल गये गांव के हालात

कोरोना काल न केवल लोगों का जीवन बदला है, बल्कि कामकाज करने का भी अंदाज बदला…

ऐसे आंदोलन की क्या जरूरत जिससे जनता का हो नुकसान

सरकार के खिलाफ पहले भी आंदोलन होते थे। चक्का जाम किया जाता था लेकिन ऐसा कुछ…