दीपावली पर दिखा स्वदेशी का दम, चीन को 50 हजार करोड़ का आर्थिक फटका

अंतरराष्ट्रीय सीमा के साथ-साथ देश की अर्थव्यवस्था में घुसपैठ करने की ताक में रहने वाले चीन को इस बार मुंह‍ की खानी पड़ी है। हमारे देश के दुश्मन और पड़ोसी चीन की नजर हमेशा व्यापार पर गड़ी रहती है। खासकर त्यौहारों के मौसम में चीन न‌ए-न‌ए हथकंडे अपना है लेकिन इस बार चीन की एक ना चली। भारतीयों ने चीन को 50 हजार करोड़ का नुकसान पहुंचाया।

चीन को लगा 50 हजार करोड़ का फटका

इसमे कोई शक नही है कि देश कोरोना की मार से उबर रहा है और इस साल दीपावली पर पिछले 10 सालों की तुलना में रिकॉर्ड खरीदारी की गई। आंकड़ों की भाषा में कहें तो इस बार दिवाली पर लगभग 1.25 लाख करोड़ का व्यापार हुआ। वही चीन के उत्पादनों के बहिष्कार का असर इसमे देखने को मिला है तभी चीन को इस बार 50 हजार करोड़ का झटका लगा है। इससे पहले पिछली साल चीन को करीब 40 हजार करोड़ का नुकसान दिवाली पर हुआ था। कारोबारियों की माने तो दीपावली के मौके पर खास तौर से खिलौने, बिजली के उपकरण और सामान, रसोई के सामान, गिफ्ट आइटम्स, होम फर्निशिंग, बर्तन, जूते, घड़ियां, फर्नीचर, कपड़े, फैशन परिधान जैसे तकरीबन 35 से 40 आइटम्स थे जिनको बड़ी मात्रा में चीन से आयात किया जाता था लेकिन इस बार देश के छोटे कारीगरों, कुम्हारों, शिल्पकारों और स्थानीय कलाकारों ने मिट्टी के दीए से लेकर सजावटी सामान, गिफ्ट आइटम्स और लडीयों का देश में ही निर्माण किया और लोगों ने इन आइटम्स की जमकर खरीदारी भी की।

वोकल फॉर लोकल का रहा जोर

पीएम मोदी की एक अपील का असर इसबार दिवाली पर खूब देखने को मिली। पीएम ने जिस तरह देशवासियों को वोकल फॉर लोकल के लिये आगे आने को बोला, जनता उसी लहजे में पीएम के साथ खड़ी हो गई और दिवाली में सामानो की खरीद के लिये स्वदेश में बने सामान को खरीदते हुए दिखाई दी जिसका असर ये हुआ कि 1.25 लाख करोड़ के व्यापार में ज्यादातर फायदा देश के कारोबारियों को हुआ। ऐसा पहली बार नही हुआ जब पीएम ने अपील की हो और उन्हे जनता का साथ मिला हो। इससे पहले भी पीएम मोदी की अपील के साथ लोग जुड़ते नजर आय़े है फिर वो वैक्सीन लगाने की बात हो या फिर दीपक या थाली बजाकर कोरना वारियर्स को सम्मान देना हो। हर बार जनता पीएम मोदी के साथ खड़ी दिखाई दी थी।

नये भारत में देश के प्रति एक अलग सी अलख जग चुकी है जिसे देश के पीएम मोदी जी ने जलाई है और उसे जलते रहने के लिये 130 करोड़ भारतीय एक साथ खड़े हो गये है। वो भी एकता के ताकत के साथ और इसकी झलक भी विश्व को दिखने लगी है।