सब लेफ्टिनेंट शिवांगी बनी नौसेना की पहली महिला पायलट

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Sub Lieutenant Shivangi becomes the first female pilot of the Navyइंडियन नेवी में एक नया इतिहास रचते हुए बिहार की शिवांगी भारतीय नौसेना की पहली महिला पायलट बनी हैं। सोमवार को पासिंग आउट परेड के बाद सब लेफ्टिनेंट शिवांगी ने नौसेना ज्वाइन किया। उन्होंने कोच्चि नेवल बेस में ऑपरेशनल ड्यूटी ज्वाइन की।

बिहार के मुजफ्फरपुर की रहने वालीं शिवांगी ने अपनी 12वीं तक की पढ़ाई डीएवी-बखरी से की है। इसके बाद उन्होंने सिक्किम मनीपाल इंस्टिच्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से बीटेक किया। शिवांगी भारतीय नौसेना अकादमी, एझिमला के 27एनओसी पाठ्यक्रम के तहत एसएससी (पायलट) के तौर पर नौसेना से जुड़ी थीं। शुरुआती ट्रेनिंग के बाद शिवांगी ने जून 2018 में ही नेवी जॉइन की है। शिवांगी के पिता हरिभूषण सिंह मुजफ्फरपुर के फतेहाबाद हाई स्कूल में शिक्षक है और मां गृहणी हैं।

बेटी की इस कामयाबी पर माता-पिता फूले नहीं समा रहें। पिता हरिभूषण सिंह ने कहा- मेरे लिए यह बहुत गर्व की बात है। एक साधारण परिवार से होने पर भी उसने बड़ी ऊंचाई पाई है। मेरी बेटी देश की रक्षा करने लगी है। यह सोचकर गर्व होता है।

पिता ने बताया कि शिवांगी बीटेक कर रही थी। तभी उसके कॉलेज आये नेवी के अधिकारी से वह इतना प्रभावित हुई कि इस क्षेत्र में जाने का फैसला कर लिया। वे कहते हैं- मैं सभी पैरेंट्स से कहना चाहता हूं कि बेटा हो या बेटी सभी को सपोर्ट करें। करना तो बच्चों को ही होता है, लेकिन माता-पिता का सपोर्ट बहुत जरूरी है।

मां प्रियंका ने कहा- मैंने कभी बेटी को उसके सपने पूरा करने से नहीं रोका। मैं हर समय उसकी सपोर्ट के लिए मौजूद रही। मैं कहती थी कि तुम्हें जो अच्छा लगता है करो। हम लोगों ने उसे कभी पीछे हटने नहीं दिया। मेरी दो बेटी और एक बेटा है। शिवांगी सबसे बड़ी है।

नौसेना के अधिकारियों के मुताबिक, शिवांगी ड्रोनियर सर्विलांस एयरक्राफ्ट उड़ाएंगी। बता दें कि निगरानी विमानों को कम दूरी के समुद्री मिशन्स के लिए भेजा जाता है और यह भारतीय समुद्री क्षेत्र की निगरानी में मदद करते हैं। इसमें अडवांस सर्विलांस रेडार, इलेक्ट्रॉनिक सेंसर और नेटवर्किंग जैसे कई शानदार फीचर्स मौजूद हैं। इन फीचर्स के दम पर यह प्लेन भारतीय समुद्र क्षेत्र पर निगरानी रखेगा।

नौसेना के विमानन विभाग में अभी महिला अधिकारियों की नियुक्ति एयर ट्रैफिक कंट्रोल ऑफिसर और विमान में ऑब्जर्वर के तौर पर होती है।

आपको बता दें कि इस साल भावना कांत भारतीय वायुसेना की पहली महिला पायलट बनी थीं, जिन्होंने सभी प्रशिक्षण क्वालीफाई किए थे। भावना के अलावा मोहना सिंह और अवनी चतुर्वेदी भी फाइटर पायलट बनी थीं। इसके अलावा भारतीय सेना में 100 महिला सैनिकों का पहला बैच 2021 में शामिल हो सकता है। इन महिला सैनिकों को भारतीय सेना के कोर ऑफ मिलिट्री पुलिस में कमीशन किया जाएगा।

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •