बदलते भारत की दास्तान: अब भारत सामान आयात ही नही निर्यात भी खूब कर रहा है

 2014 से पहले देश में ज्यादतर हर सामान विदेश से आते हुए हमने देखा है। भारत उस दौर में निर्यात कम करता था और आयात ज्यादा और इस बात पर हम इतराते थे। लेकिन सत्ता में मोदी सरकार के आने के बाद मेक इन इंडिया के मंत्र के साथ भारत तेजी के साथ आत्मनिर्भर बनता हुआ दिखाई दे रहा है। तभी तो भारत आज निर्यातक देश के तौर पर उभर रहा है।

भारत की टॉप 10 एक्सपोर्ट डेस्टिनेशंस

मोदी सरकार की कोशिशो का ही नतीजा है कि आज भारत गर्व के साथ बोल सकता है कि भारत विश्व में वस्तुओं का निर्यात कर रहा है। अमेरिका में करीब 3,81,844 करोड़ रूपये का समान निर्यात कर रहा है तो चीन को भी करीब 1,57,201 करोड़ का निर्यात कर रहा है। इसी तरह यूएई में 1,23,333 करोड़ रूपये की वस्तुओं का बिजनेस किया जा रहा है। हॉन्गकॉन्ग में 75,201 करोड़, बांग्लादेश 71,509 करोड़, सिंगापुर 64,382 करोड़,यूके 60,244 करोड़, जर्मनी 60,112 करोड़, नेपाल 50,465 करोड़ और नीदरलैंड में 47,858 करोड़ का समान निर्यात कर रहा है। जो भारत के आत्मनिर्भर बनने की शक्ति को दिखाता है। इस बिजनेस के चलते ही आज कोरोना काल में भी भारत दूसरे देशों की अपेक्षा आर्थिक तौर पर ज्यादा मजबूती के साथ खड़ा है।

पीएम मोदी के आत्मनिर्भर भारत के मंत्र ने बदला देश

याद कीजिये आज से ठीक 2 साल पहले कोरोना काल में पीएम मोदी ने देश की जनता को एक मंत्र दिया था और बोला था कि अगर इस दौर में हमें मजबूत बनना है तो देश को खुद आत्मनिर्भर बनना होगा। इतना ही नही उन्होने वोकल फॉर लोकल पर भी बल देने को बोला था जिसके बाद भारतीय लोगों में भारत में बने समान खरीदने की आदत बढ़ी और उसी का नतीजा ये हुआ कि भारत आज बाहर से सामान कम आयात कर रहा है। वही पीएम मोदी ने विदेशी कंपनियों को भी भारत में कारखाने लगाकर कारोबार करने की आपील की जिसका फायदा आज देश को मिल रहा है। देश में विदेशी निवेश लगातार आ रहा है और खुलकर कारोबार कर रहा है जिससे देश के लोगो को रोजगार भी मिल रहा है जिससे स्थिति बिलकुल बदली हुई नजर आ रही है।

खुद पीएम मोदी ने दुनिया को विश्वास भी दिलाया है कि भारत में इस वक्त निवेश करने का सबसे अच्छा मौका है। नियम कानून में उदारता दिखा कर देश में विदेशी कारोबार को बुलाया जा रहा है। आलम ये है कि आज कश्मीर में भी लोग विदेशी कंपनिया निवेश से पीछे नही हट रही है जिससे भारत तेजी से आगे बढ़ता हुआ दिख रहा है, आत्मनिर्भर बन रहा है।